August 15, 2014

पुस्तक

प्रकृति काव्य का प्रथम हिन्दी हाइकु कोश

डॉ. सतीशराज पुष्करणा

विगत तीन-चार दशकों के कठोर संघर्ष के बाद डॉ. आदित्य प्रताप सिंह, डॉ.भगवत शरण अग्रवाल, डॉ. सुधा गुप्ता, डॉ. शैल चतुर्वेदी, उर्मिला कौल, भावना कुँअर, डॉ. हरदीप संधु, रचना श्रीवास्तव, डॉ. उर्मिला अग्रवाल, रामेश्वर काम्बोज हिमांशु, राजेन्द्र मोहन त्रिवेदी 'बन्धुजैसे अनेक समर्थ कवि-कवयित्री की गंभीर साधना के फलस्वरूप आज हाइकु-काव्य इस स्थिति में आ पहुँचा है कि वह पाठकों एवं समीक्षकों का ध्यान आकृष्ट कर सके तथा कोश के माध्यम से अपनी सामर्थय को प्रत्यक्ष कर सके। प्रमाणस्वरूप डॉ.सुधा गुप्ता एवं डॉ. उर्मिला अग्रवाल के संयुक्त संपादकत्व में प्रकाशित 'हिन्दी हाइकु- प्रकृति-काव्य कोशको अवलोकित किया जा सकता है, जो कुछ माह पूर्व प्रकाश में आया है।
छह खण्डों में विभक्त महाभूतों तथा एकाधिक तत्त्वों को समाहित किए 2196 हाइकुओं का संकलन मात्र नहीं है अपितु गम्भीर पीठिका के साथ-साथ 'आकाश’, 'वायु’, 'अग्नि’, 'जलऔर 'पृथिवी’, इन पाँच तत्त्वों के अतिरिक्त छठे खण्ड के रूप में 'संयुक्त तत्त्व'में संकलित हाइकु से पूर्व प्रत्येक तत्त्व पर अलग-अलग एक-एक गंभीर लेख प्रकाशित है, जो विषय की गम्भीरता को पूरी गहराई तक समझाने में सहायक है।
यहाँ एक प्रश्न सहज ही उठता है कि यह कोश क्यों है? यह कोश इसलिए है कि इसमें छहों खंडों को मिलाकर 2196 हाइकु संकलित हैं तथा प्रत्येक खंड के आरम्भ में विषय को स्पष्ट करता एक-एक लेख है। प्रत्येक खंड में प्रकाशित हाइकु पर क्रम संख्या अंकित है और खंड के अंत में हाइकुओं की वही क्रम संख्या उन हाइकु कवियों के वर्णक्रमानुसारनाम के सामने अंकित है, जिससे यह स्पष्ट हो जाता है कि किस कवि के कौन-कौन से हाइकु हैं।
अंत में 'आधार ग्रन्थशीर्षक के अन्तर्गत जिन 151 पुस्तकों से उन हाइकुओं को चुना गया है, वर्णक्रम से कृति का नाम, कृतिकार का नाम और प्रकाशन वर्ष दिया गया है। इस सन्दर्भ  से यह भी पता चलता है कि  प्रमुख रूप से कौन-से  हाइकु संकलन एवं संग्रह प्रकाशित हुए हैं। इसके पश्चात् 'सहायक ग्रन्थ सूचीमें उन पुस्तकों एवं लेखकों के नाम के साथ-साथ, प्रकाशक का नाम एवं प्रकाशन का वर्ष देकर संपादकद्वय ने पूरी पारदर्शिता का स्पष्ट परिचय दिया है। यह सारी सामग्री इतने वैज्ञानिक ढंग से प्रस्तुत की ग है कि किसी भी पाठक को कोई असुविधा नहीं होती। प्रस्तुत सामग्री एवं उसका सटीक प्रस्तुतीकरण इस 388 पृष्ठीय ग्रन्थ को सहज ही 'कोशकी श्रेणी में ला खड़ा करता है।
संपादकों का श्रम इस सामग्री से तो स्पष्ट है। इसके साथ ही 200 पुस्तकों को देखने के साथ इण्टरनेट एवं नेट पत्रिकाओं- हिन्दी हाइकु, उदंती, अविराम साहित्यिकी, त्रिवेणी इत्यादि से खोजकर भी उपयुक्त हाइकु को स्थान दिया गया है। प्रकृति के पाँच तत्वों को केन्द्र में रखकर न केवल यह प्रथम कार्य हुआ, अपितु इतना विशाल काम भी पहला ही है।
अब थोड़ी चर्चा इस कोश में प्रकाशित हाइकुओं पर भी हो जाए, तभी पुस्तक एवं संपादकों के प्रति न्याय हो पाएगा। पहले खंड में 398, दूसरे खण्ड में 508, तीसरे खण्ड में 228, चौथे खण्ड में 366, पाँचवें खंड में 438 और अंतिम यानी छठे खंड में 258 हाइकु का पूरी ईमानदारी से श्रेष्ठ चुनाव किया गया है। श्रेष्ठता का पता हाइकु-अध्ययन के पश्चात्स्पष्ट होता है। उदाहरण स्वरूप प्रत्येक खंड से क्रमश: दो-दो हाइकु प्रस्तुत हैं- नभ उदास/हो गई दोपहर/कोई न पास (प्र.खंड क्र. 268) नभ में ताके/प्यासी एक गौरैया/सूखी तलैया (प्र.खंड क्र. 309) पवन छुई/पत्ते नाचते-गाते/बाँटते सुख (द्वि.खंड क्र. 35 ) घाम से डर/दुबक कर बैठी/शीतल हवा (द्वि.खंड क्र. 25) तेज है धूप/अगनी बनी स्तूप/सूखे हैं कूप (तृ.खंड क्र. 29) दौड़ती आती/आग बरसाती/धूप सताती (तृ.खंड क्र. 74) बादल घना/भर गई तलैया/पानी बरसा (च.खंड क्र. 67) वर्षा का पानी/भिगोता तन-मन/खुश है प्राणी (च.खंड क्र. 46) ओढ़ सो गयी/शरद की चाँदनी/भोली धरती (पं.खंड क्र. 25) आई हिचकी/बादल को जब भी/धरा सिसकी (पं.खंड क्र. 289) पुरवा झूमे/लहरा के बादल/धरती चूमे (ष.खंड क्र. 162) चाँदनी खिली/अंबर-आँगन में/धरती धुली (ष.खंड क्र. 242)
 उपर्युक्त बारह उद्धरणों से जहाँ चुनाव की श्रेष्ठता का पता चलता है, वहीं यह बात भी स्पष्ट हो जाती है कि हाइकु-काव्य भी अपनी सीमा के भीतर अपनी महत्ता एवं श्रेष्ठता का सहज ही परिचय देता है। ये उद्धरण हाइकु के उज्ज्वल भविष्य की ओर भी सुखद संकेत करते हैं।
पाँच तत्व, जो प्रकृति के विभिन्न अंग हैं, के विषय में भी थोड़ी जानकारी आवश्यक है। इस पुस्तक की पीठिका में संपादकद्वय ने स्पष्ट किया है- इन पाँच तत्त्वों में पृथिवी का विस्तार सबसे कम है। सृष्टि में पृथिवी एक चौथाई भाग और तीन भाग जल है। (जल का विस्तार अधिक सिद्ध होताहै।) अग्नि का विस्तार जल से अधिक है। हर वायु/स्थान में अग्नि विद्यमान है। ज्वलनशीलता हर वस्तु का गुण है। अग्नि का संस्पर्श पाते ही प्रत्येक पदार्थ जल उठता है। अग्नि सदैव ऊर्ध्वमुखी होकर अपने विस्तार का परिचय देती है। वायु का विस्तार अग्नि से अधिक है। पृथिवी के 200 किलोमीटर ऊपर तक वायु विद्यमान है। और वायु के कारण जीवन संभव है। अत: इसी कारण साधारण भाषा में वायु को जीवनाधार, 'प्राणाधार'कहा जाता है। आकाश तत्त्व का व्यापकत्व सर्वाधिक है। 'आकाशअसीम, अनन्त, सर्वव्यापी है। उसे मापा नहीं जा सकता। वैज्ञानिक अध्ययन ने सिद्ध कर दिया है कि मानव शरीर इन्हीं पाँच तत्त्वों से निर्मित है। अत: यह बहुत ही स्वाभाविक है कि मनुष्य जिन पाँच प्रकृति तत्त्वों से निर्मित है, उसका ध्यान उस ओर जाए और जब इन पाँच तत्त्वों की चर्चा हो जाए तो प्रकृति में इससे इतर कुछ शेष रह ही नहीं जाता।
यह संतोष की विषय है कि हाइकु की मूल चेतना कभी दर्शन और बाद में प्रकृति रही है और आज भी है। संपादकद्वय ने हाइकु- कोश प्रकाशित कराने से पूर्व यदि हाइकु की मूल चेतना पर विचार किया है तो यह स्वाभाविक भी था। संपादकद्वय की इस भावना की भूरि-भूरि प्रशंसा की जानी चाहिए।
इन हाइकुओं को पढ़कर यह भी संतोष होता है कि वर्तमान में प्राय: चर्चित हाइकुकारों के हाइकु इस कोश की शोभा बन अपनी सुखद उपस्थिति का सहज ही अहसास कराते हैं।

पुस्तक: हिन्दी हाइकु  प्रकृति-काव्यकोश  संपादन- डॉ. सुधा गुप्ता/ डॉ.उर्मिला अग्रवाल। प्रकाशक- अयन प्रकाशन, 1/20, महरौली, नई दिल्ली-110030। मूल्य- रु. 750/- मात्र। संस्करण- 2014

सम्पर्क: लघु कथानगर, महेन्द्रू, पटना-800006 (बिहार)

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष