May 30, 2012

रंग- बिरंगी दुनिया

मौत के बाद भी उन्हें चाहिए आराम

 
दुनिया में अजूबों की कमी नहीं है तभी तो लोगों को मरने के बाद भी चैन नहीं वे मरकर भी सुकून भरी की जिंदगी चाहते हैं। ऐसी ही कुछ चाहत रखने वाले ब्रिटेन की एक दंपती ने मौत के बाद आराम फरमाने के लिए समूचा द्वीप खरीद लिया है। हर्टफोर्डशायर स्थित बीचवुड पार्क बोर्डिंग स्कूल में सूचना प्रसारण प्रौद्योगिकी विभाग के प्रमुख पीयर्स कैसीमीर म्रौकजिंस्की (50) ने आइसले टापू के पास मैकेंजी आइलैंड नामक छोटा द्वीप इसलिए खरीद लिया ताकि वह और उनकी पत्नी पाओलिन को मरने के बाद वहां दफ्न किया जा सके। 55 हजार पाउंड यानी 88 हजार डालर से अधिक की रकम देकर उन्होंने यह द्वीप खरीदा है।
म्रौकजिंस्की ने बताया कि उन्हें तीन साल पहले पता चला कि वह अपेंडिक्स के कैंसर की बीमारी से पीडि़त हैं। उसी समय उनके दिमाग में यह विचार आया कि कोई ऐसी जगह होनी चाहिए जहां वह अपनी पत्नी के साथ सुकून से दफ्न हो सकें। यह द्वीप फिलहाल निर्जन है जिसकी वजह से म्रौकजिंस्की दंपती के आराम के लिए काफी मुफीद जगह है। गौरतलब है कि म्रौकजिंस्की ने अब तक इस द्वीप को केवल तस्वीरों और नक्शों में ही देखा है। वह खुद कभी यहां नहीं गए। उन्होंने बताया कि उन्हें समुद्र बेहद पसंद है और यह जगह समुद्र के काफी करीब होने के कारण बहुत खूबसूरत है। मरने की बाद की इस चाहत का भी जवाब नहीं।

अग्नि युद्ध की परंपरा

कर्नाटक के मैंगलोर में देवी को खुश करने के लिए जलती मशालों से जंग लडऩे की एक अजीबो- गरीब परंपरा निभाई जाती है। मैंगलोर के कटील में प्रसिद्ध दुर्गा परमेश्वरी मंदिर में आस्था के नाम पर आग से खेलने का दिल दहला देने वाला खेल परंपरा के नाम पर खेला जाता है। मंदिर के आठ दिन तक चलने वाले सालाना उत्सव के दूसरे दिन मशालों की ये जंग होती है। इलाके के लोगों के मुताबिक ये परंपरा सदियों से चली आ रही है। पिछले दिनों एक बार फिर इस परंपरा को निभाया गया।
'अग्नि केलि' नाम का ये खेल दो गांव के लोगों के बीच खेला जाता है। सबसे पहले देवी की शोभा यात्रा निकाली जाती है इसके बाद पास ही में बने तालाब में डुबकी लगाने के बाद आतुर और कलत्तुर गांव के लोग दो गुटों में बंट जाते हैं। वे अपने- अपने हाथों में नारियल की छाल से बनी मशाल लेकर एक दूसरे के विरोध में खड़े हो जाते हैं। मशालों को जलाया जाता है और फिर शुरू हो जाता है जलती मशालों को एक-दूसरे पर फेंकने का खेल। ये खतरनाक खेल करीब 15 मिनट तक खेला जाता है। इस दौरान एक शख्स को सिर्फ पांच बार जलती मशाल फेंकने की इजाजत होती है।

...और उन्होंने 55वीं मंजिल से छलांग लगा दी

कुछ लोग अपना उल्लू साधने के लिए नित नए कारनामे करते रहते हैं। ऐसा ही एक वाकया मेलबर्न के पांच सितारा होटल में हुआ। चार स्टंटबाजों ने महंगे होटल में खाना खाने की योजना बनाई लेकिन उनके पास खाने का बिल देने के पैसे नहीं थे। सो, मुफ्त में लजीज व्यंजन उड़ाने की चाहत में इन्होंने अपनी करतब बाजी को जरिया बनाया और होटल में पैराशूट भी छुपाकर ले गए। वहां इन्होंने जमकर खाना खाया और महंगी शराब पी। उसके बाद बैरे से इन्होंने बिल मांगा। जब वह बिल लेने गया तो चारों ने पैराशूट की मदद से 55वीं मंजिल से छलांग लगा दी। होटल वाले भौंचक्के रह गए और ये आराम से उतरकर चलते बने।

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष