उदंती.com को आपका सहयोग निरंतर मिल रहा है। कृपया उदंती की रचनाओँ पर अपनी टिप्पणी पोस्ट करके हमें प्रोत्साहित करें। आपकी मौलिक रचनाओं का स्वागत है। धन्यवाद।

Jan 1, 2021

आलेख- सूरज का पर्दा

 सूरज का पर्दा

-रावी
   धरती जब सूर्य के सामने घूमते-घूमते सात नील दिन और उतनी ही रातों की यात्रा कर चुकी, तब उसके कुछ पुर्जे ढीले हो ग और उसमें कुछ मरम्मत की आवश्यकता हुई।

   धरती के शिल्पी देवताओं ने हिसाब लगाकर बताया कि इस मरम्मत के लिए पृथ्वी को तीन दिन और तीन रातों के बराबर समय तक के लिए अपनी यात्रा रोकनी पड़ेगी, और इसका यह अर्थ होगा कि पृथ्वी के एक गोलार्द्ध पर नियमित से छ गुना दिन-और दूसरे गोलार्द्ध पर छह गुनी रात होगी। सौर मंडल के अधिष्ठाता विवस्वान् देव ने अन्तरिक्ष के एक केन्द्रीय नक्षत्र में देवताओं की सभा की। समस्या यह थी कि आवश्यक मरम्मत के लिए धरती तीन दिन तक ठहरा दी जाए, इसमें तो कोई हानि नहीं; लेकिन इससे उसके एक गोलार्द्ध पर छ गुना दिन और दूसरे पर छ गुनी रात होगी। उससे धरती के प्राणियों विशेषकर मानवजन पर जो आतंक छा  जाएगा और प्रकृति की नियमितता पर उन्हें जो अविश्वास हो  जाएगा उसका परिणाम बहुत ही घातक होगा। आवश्यकता इस बात की थी कि धरती के जीवों को धरती के इस स्तम्भन का पता न लग पा और काम भी पूरा हो जा
   बड़े-बड़े प्रकाश-पुंज नक्षत्रों के अधिष्ठाता देवताओं ने अपनी-अपनी सेवाएँ  प्रस्तुत करते हुए अपना संपूर्ण बुद्धि-बल लगा देखा, पर वे इस समस्या का हल नहीं निकाल सके। उनमें से अनेक यह तो कर सकते थे कि अपने नक्षत्र का एक बड़ा प्रतिबिम्ब धरती के समीप लाकर उसके निम्नार्द्ध सूर्य से विमुख-भाग के सामने एक कृत्रिम सूर्य के रूप में सूर्य-की-सी गति से चालित करें और उस
गोलार्द्ध के निवासियों को उस दीर्घ रात्रि का पता न लगने दें,
पर सूर्य के सामने वाले गोलाई के निवासियों के लिए कुछ करने का साधन उनके हाथ में कोई नहीं था। अन्त में, जब सभी अगली पंक्तियों के देवता अपनी असमर्थता प्रकट कर चुके, तब सबसे अन्तिम पंक्ति में बैठा हुआ एक बहुत ही छोटा, ज्योतिहीन, वरुण नाम का मेघों का देवता उठा और उसने इस परिस्थिति को साध सेने के लिए अपनी सेवाएँ  प्रस्तुत कीं
   
बड़े देवताओं को वरुण के इस साहस पर आश्चर्य हुआ और उन्होंने उसके प्रस्ताव को एक धृष्टतापूर्ण दुस्साहस समझा। किंतु वरुण ने विवस्वान् देव से विश्वासपूर्ण शब्दों में निवेदन किया कि वह धरती के शिल्पी देवताओं को अपना कार्य प्रारंभ करने की आज्ञा दें और उन्हें श्वासन दिया कि शेष अव्यवस्था को वह सहज ही सँभाल लेगा।

विवस्वान् देव की आज्ञा लेकर वरुण ने पृथ्वी के दोनों गोलार्द्धों के आकाश को घने मेघों से पाट दिया और ततक उन्हें वहीं रोके रखा, जबतक शिल्पी देवों ने धरती की मरम्मत का अपना काम पूरा न कर लिया। इतने दीर्घकाल तक मेघाच्छान्न-आकाश पृथ्वी के निवासियों के लिए एक अदृष्ट -पूर्व घटना थी, पर इसमें उनके लिए कोई अकल्पित-पूर्ण या आतंकित करने वाली बात नहीं थी। वरुण के इस कौशल से उन्हें दिन और रात के स्तम्भन का कोई पता नहीं लग पाया और वे अपने कृत्रिम दीप-प्रकाश में स्वाभाविक दिन-रात की भाँति काम करते रहे।

लघु का काम गुरु से और अन्धकार का काम प्रकाश से यदि होने लगे तो प्रकृति की व्यवस्था में लघु और अँधकार का स्थान ही कहाँ रह जाए ?

(साभार- मासिक पत्रिका- जीवन साहित्य, जनवरी-1953, वर्ष-14, अंक-1, सम्पादक –हरिभाऊ उपाध्याय, यशपाल जैन, सस्ता साहित्य मण्डल , नई दिल्ली से प्रकाशित, मूल्य एक प्रति-6 आना, वार्षिक- 4 रुपये)

No comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।