August 13, 2020

अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों
-  शशि पाधा
सैनिक पत्नी होने के नाते मुझे लगभग तीन वर्ष फ़िरोज़पुर छावनी में रहने का अवसर मिला। वहाँ रहते हुए जो अनुभव मेरे मन मस्तिष्क में अमिट चिह्न छोड़ गए हैं, उनमें से सबसे अनमोल था मेरा बार-बार शहीद भगत  सिंह, राजगुरु और सुखदेव की समाधि पर जाकर पुष्पांजलि अर्पित करना। जो भी मित्र, पारिवारिक सदस्य, वरिष्ठ सैनिक परिवार फ़िरोज़पुर आता, हम उन्हें इस समाधि स्थल पर अवश्य ले जाते। पंजाब राज्य में बहने वाली  पाँच नदियों में से सतलुज नदी के किनारे बसे हुसैनीवाला गाँव में बनी झील के किनारे समाधि बनी हुई है । इस स्थान से भारत-पाक सीमा एक किलोमीटर दूर भी नहीं है। जो भी लोग हुसैनीवाला सीमा पर भारत-पाक की परेड देखने आते हैं , वे इस महत्त्वपूर्ण  समाधि-स्थल पर अवश्य आकर पुष्प आदि चढ़ाते हैं।




मैं  कई बार शाम को वहाँ जाकर उन्हें मौन श्रद्धांजलि देती थी; लेकिन एक दिन का अनुभव मुझे आज तक  कँपा देता है। मेरे वृद्ध माता-पिता कुछ दिनों के लिए मेरे पास फिरोजपुर में रहने के लिए आए थे। उन्हें मैं एक दिन शाम के समय इस समाधि स्थल पर ले गई। जैसा कि हर बार होता था, हमारे घर में रहने वाले सहायक भैया ने हमारी गाड़ी में कुछ पुष्पहार और कुछ पुष्प रख दिए थे। मैं अपने माता -पिता को लेकर समाधि- स्थल पर पहुँची, तो उन दोनों ने वे पुष्पहार तीनों शहीदों की प्रस्तर मूर्तियों पर चढ़ाए और हाथ जोड़कर नमन की मुद्रा में खड़े रहे। पास ही हमारी सेना की छोटी- सी पोस्ट है। उसमें धीमा-धीमा संगीत चल रहा था। गाना था– कर चले हम फिदा जानो-

तन साथियो , अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों। हम सब की आँखें बंद थी और हम उस अलौकिक पल में पूरी तरह डूबे थे।

अचानक मैंने महसूस किया कि मेरे पिता की आँखों से अविरल अश्रुधारा बह रही थी और वो गीता के किसी मन्त्र का जाप कर रहे थे।  यह मेरे लिए अभूतपूर्व अनुभव था। मैंने अपने धीर, मितभाषी पिता को कभी रोते हुए नहीं देखा था। ऐसा क्या हुआ होगा कि वो इस समाधि स्थल पर खड़े होकर इतने विचलित हो गए। जब थोड़े संयत हुए, तो स्वयं ही हमसे बोले, ‘लगभग मेरी ही उम्र के थे शहीद  भगत सिंह। मुझे एक बार इनसे मिलने का अवसर भी मिला था। वो बहुत ही सौम्य नौजवान था। देश -प्रेम की भावना उसके रोम- रोम से प्रकट हो रही थी। आज इन वीरों की समाधि देख कर मैं गर्वित भी हो रहा हूँ और ग्लानि भी हो रही है कि हम देशवासी इन्हें बचा नहीं सके। क्या 23 वर्ष भी उम्र होती है किसी नौजवान के जाने की? थोड़ी देर बाद फिर हाथ जोड़कर वे इस त्रिमूर्ति के सामने सिर झुकाकर खड़े रहे। जाते समय बोले-कृतज्ञ हूँ, अभिभूत हूँ। उन्होंने वहाँ चढ़ाए फूलों में से कुछ फूल उठाए और अपने रूमाल में बाँध कर रख लिये

उस शाम हम अपने माता -पिता के साथ बहुत देर तक हुसैनीवाला झील पर नौका विहार करते रहे। मेरे पिता स्वतन्त्रता संग्राम की बातें सुनाते रहे और मैं धनी होती रही। जब भी 23 मार्च का दिन आता है, मैं शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को श्रद्धा सुमन तो अर्पित करती ही हूँ; किन्तु पर्वत जैसा हौसला रखने वाले अपने धीर  पिता के साथ बिताए इन अनमोल पलों को याद करते हुए अंदर तक भीग जाती हूँ।

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष