May 15, 2020

दो लघुकथाएँ


1. चार हाथ

-जानकी वाही

 ‘‘ये क्या समझते हैं? अब इनका हमसे मतलब नहीं पड़ेगा?’’ श्याम ने निराशा से क्षितिज को निहारा जहाँ अँधेरा अपनी धमक देने लगा था।
‘‘देखो जी! पड़ोसी से तो नून और राख का भी लेन-देन होता है। रशीद भाई क्या अपनी पक्की अटारी में चैन से सो पाएँगे?’’ सुनीता ने जल्दी-जल्दी छप्पर छाने के लिए श्याम को लकड़ी पकड़ाते हुए कहा।
‘‘हमें तो गरीबी मार देती है मुन्नी की अम्मा। अब देखो, दंगा-वंगा सब खत्म हो गया है मगर हमारे जले घरों की बू को शानदार बँगलों में बैठे नेता क्या महसूस करेंगे?’’ श्याम बोला।
‘‘हाँ जी! जब हमारी झोंपड़ी जल रही थी, तब रशीद भाई अन्दर छुपे रहे। खुद भीड़ में शामिल नहीं हुए तो क्या? साथ तो दे ही दिया ना अपने धर्म-भाइयों का?’’
आवाज में हल्का गुस्सा तो था ही, साथ ही गरीबी में लिपटी बेबसी भी झलक रही थी।
‘‘हाँ री! पर चूल्हा तो सबका ही गीला हुआ ना? क्या हिन्दू, क्या मुसलमान! दोनों में से किसके घर देग चढ़ पाई इन दंगों में। गरीब की भी क्या जात!’’
तभी रशीद मियाँ अपने बेटे के साथ आ गए।
‘‘सही बोले श्यामू भाई! चूल्हा क्या जाने मजहब क्या होता है। हम भी जान के डर से छुप गए थे। पर पड़ोसी का रिश्ता तो हर मजहब से बड़ा होता है ना!’’ उनके चेहरे पर थकान के साथ एक मधुर मुस्कान थी।
‘‘हाँ काका! दो हाथ आपके, दो हमारे। देखो, ऐसा मजबूत छप्पर बनाएँगे कि अबके कोई ढहा न पाएगा। काकी, अब आप हटिए, हम हैं ना!’’ कहते हुए रशीद मियाँ का बेटा तेजी से श्याम के साथ छप्पर छाने लगा।

2. छू लिया
सुहासिनी ने दूर से सरसतिया को देखते ही मुँह में कपड़ा लपेटा। उसे लगता है – जब भी कोई भी सड़क से गुज़रता है , तो सरसतिया जानबूझ ज़ोर-ज़ोर से झाड़ू मारकर धूल उड़ाती है। –
पर इन लोगों के मुँह कौन लगेकुछ कहा नहीं की सात पुश्तें तार देंगे।”
बड़बड़ाती हुई सुहासिनी ने कदम तेज़ किये। रोज हर सुबह स्कूल जाते समय दोनों की भेंट होती है। एक के मुँह पर जातिगत दर्प और खीझ झलकती तो दूसरे के चेहरे से गुस्सा और नफ़रत। गनीमत थी दोनों अपने -अपने म्यान में सिमटी रहतीं। हाँ कभी- कभी सरसतिया की बड़बड़ाहट उस तक ज़रूर पहुँचती।
हमसे परे -परे जायेंगेहम तो छूत की बीमारी हैं ना ?…”
जल्दी -जल्दी सरसतिया से दूर जाने की हड़बड़ी में सुहासिनी का पाँव जो मुड़ा तो दर्द से दोहरी हो वहीं गिर गई। ये देख सरसतिया ने हाथ का झाड़ू फेंक सुहासिनी को थाम लिया,और खींच-तान के पाँव की नस ठीक कर सहारा दे खड़ा कर दिया।
फिर मुस्कुरा कर बोली -“हमने छू लिया तुमको।”
“सच कहातुमने तो हमारे मन को भी छू लिया” सुहासिनी ने सरसतिया के धूल भरे हाथों को प्यार से पकड़ लिया। लगा एक अभेद्य दुर्ग ढह गया।
E-mail-jankiwahie@yahoo.in

Labels: ,

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home