May 10, 2011

बूंद बूंद से ही भरता है घड़ा

- नवनीत कुमार गुप्ता
मार्च-अप्रैल के महीने से ही देश के अनेक हिस्सों में जल संकट गहराने लगता है। प्रत्येक साल जल संकट बढ़ता ही जाता है। वैसे यह विडम्बना ही है कि जहां एक ओर हमारे देश के कुछ हिस्सों में पानी लाने के लिए महिलाओं को कई कोस चलना पड़ता है वहीं कुछ लोग पानी का अंधाधुंध अपव्यय करते हैं। यह स्थिति तब है जब सभी को पता है कि पानी की प्रत्येक बूंद अनमोल है। फिर भी न जाने क्यों यह कहावत भूलने लगे हैं कि बूंद- बूंद से घड़ा भरता है। आज भी अनेक नलों पर टोंटी नहीं लगी होती, जिससे पानी की बर्बादी होती रहती है। वैसे तो हर साल 22 मार्च को विश्व जल दिवस के रूप में मनाया जाता है लेकिन फिर भी जनमानस में पानी के संरक्षण को लेकर अभी तक पूरी जागरूकता नहीं आई है।
सभी जानते हैं कि पानी का मुख्य स्रोत बारिश है। सभी स्रोतों में, चाहे वह नदी हो या नहर या जमीन के नीचे मौजूद पानी का अथाह भंडार, जल की आपूर्ति बारिश द्वारा ही होती है। हमारे देश में भारी बारिश लगभग 100 घंटे बारिश होती है। यानी साल के 8,760 घंटों में हमें सिर्फ 100 घंटों में बरसे पानी से ही काम चलाना पड़ता है।
वर्तमान में प्रदूषण के कारण जल की गुणवत्ता में गिरावट आई है। औद्योगीकरण और सघन कृषि तथा शहरीकरण के चलते हमने सतही जल के साथ- साथ भूजल का अंधाधुंध दोहन किया है। आज पानी की मात्रा और गुणवत्ता दोनों में भयानक कमी देखी जा रही है। कई इलाकों में पानी में इतने भारी तत्व और अन्य खतरनाक रसायन प्रवेश कर चुके हैं कि वह पानी अब किसी भी जीव के उपयोग के लिए सही नहीं है। आज समाज और व्यक्ति 'बिन पानी सब सून' जैसी पुरानी और सार्थक कहावतों को भूलकर, पानी को संचय करने की हजारों साल पुरानी परंपराओं को भूल गया है जिसके परिणामस्वरूप भारत समेत विश्व के अधिकतर देशों को गंभीर जल संकट का सामना करना पड़ रहा है।
पानी में यह जहर या प्रदूषण विभिन्न माध्यमों से जैसे औद्योगिक तरल अपशिष्ट को सीधे नदी में बहा देने या घरेलू खतरनाक अपशिष्ट को सीधे नदी में डाल देने से फैलता है। इसके अलावा कृषि में उपयोग किए गए रसायनों जैसे रासायनिक खाद, खरपतवारनाशी, कीटनाशी आदि के पानी में घुल जाने से भी पानी की गुणवत्ता प्रभावित होती है। इसके अलावा जैविक पदार्थ और मल आदि से भी नदियों का पानी दूषित होता है। एक अध्ययन के अनुसार भारत में मानव और पशुओं के अपशिष्ट के प्रबंधन की कोई सही व्यवस्था नहीं है। हालांकि यह समस्या ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में समान ही है, परन्तु तेजी से बढ़ते महानगरों में अपशिष्ट के प्रबंधन की समस्या ज्यादा गंभीर है। लुगदी और कागज उत्पादन जैसी औद्योगिक गतिविधियां, जिनमें काफी बड़ी मात्रा में जैविक पदार्थ नदियों में मिलाए जाते हैं, इन सभी से नदी की इकॉलॉजी बिगड़ती है। जैविक पदार्थों को नदी में डालने से नदी में घुली हुई ऑक्सीजन की मात्रा में कमी आ जाती है।
लेकिन इन सबसे ज्यादा खतरनाक है नदी में मानव द्वारा निर्मित जैविक प्रदूषकों और भारी तत्वों का घुलना। इलेक्ट्रोप्लेटिंग, रंगाई के कारखाने और धातु आधारित उद्योगों आदि के कारण भारी तत्वों का काफी बड़ी मात्रा में उत्सर्जन होता है, जो नदी में घुल जाते हैं और इससे पूरे मानव समाज के साथ-साथ पशु-पक्षियों और नदी के जीवों पर भी भयानक प्रभाव पड़ता है। पेंट, प्लास्टिक आदि उद्योगों के अलावा गाड़ी आदि के धुएं में भी सीसे, पारे जैसे भारी तत्वों की काफी मात्रा होती है और ये कैंसर जैसे रोग पैदा करने के साथ- साथ सांस की भयानक बीमारियों को जन्म देते हैं और बच्चों में मस्तिष्क का विकास भी प्रभावित होता है। तरह- तरह के त्वचा रोग भी इन प्रदूषकों की ही देन हैं।
जल की गुणवत्ता में गिरावट और संदूषण के लिए मुख्यत: औद्योगिक, घरेलू, कृषि रसायनों तथा अंधाधुध पानी के दोहन को ही जिम्मेदार माना जाता है। भारत में हुए एक अध्ययन का यह निष्कर्ष निकला है कि ज्यादातर भूजल संदूषण शहरी विकास के संदर्भ में बनाई गई गलत और अनुपयोगी नीतियों का ही नतीजा है। उद्योगों में जल को बगैर उपचारित किए बहा देना, कृषि में रासायनिक खाद और कीटनाशकों का अत्यधिक प्रयोग और इसके साथ- साथ भूमि में जमा जल का सिंचाई के लिए गैर-जरूरी दोहन, पानी में घुलते जहर की समस्या में भारी इजाफा करते हैं। अस्सी के दशक में हुए एक सर्वेक्षण से यह सामने आया था कि भारत में करीब 7452 करोड़ लीटर अपशिष्ट जल प्रति दिन पैदा होता है, जो आज इससे कई गुना बढ़ गया है और अगर इस दूषित जल का उपचार ठीक से न किया गया तो यह बहुमूल्य भू-जल को भी विषैला बना देगा।
पश्चिम बंगाल के आठ जिलों में आर्सनिक की विषाक्तता पाई गई है। पारा पश्चिम बंगाल से लेकर मुम्बई के तटों पर भी मौजूद है। भारत में तेरह राज्य फ्लूरोसिस से ग्रस्त घोषित किए गए हैं। फ्लूरोसिस प्राकृतिक रूप से मौजूद फ्लोराइड के खनिजों की अधिकता से होता है। भारत में करीब 5 लाख लोग फ्लोराइड की अधिकता से पीडि़त हैं। इसी तरह, भारत के कुछ राज्यों में पानी में लौह तत्व की भी अधिकता देखी गई है। हालांकि लौह हमारे शारीरिक तंत्र को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचाता, परन्तु लम्बी अवधि में यह ऊतकों को नुकसान पहुंचाना शुरू कर देता है।
हम रोज जहर पानी में घोल भी रहे हैं और उसका सेवन भी कर रहे हैं। पानी में घुला जहर हर वनस्पति में अवशोषित होता है तथा वहां से हमारे भोजन में। इन संदूषकों के प्रभाव विध्वंसकारी हैं जो वक्त के साथ- साथ हमें अपने शरीर की घटती प्रतिरोधक क्षमता, बढ़ती बीमारियों और खत्म होते जीवन के रूप में दिखाई दे रहे हैं। हमने पानी और अपने जीवन में बहुत जहर घोल लिया है। अब जरूरत है जल के संरक्षण के लिए प्रयासरत हो जाने और धरती पर जीवन को पोषित करने वाले जल को शुद्ध और स्वच्छ बनाए रखने की।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष