January 29, 2011

छत्तीसगढ़ की साहित्यिक पृष्ठभूमि को रेखांकित करने वाले

ठाकुर जगमोहन सिंह

भारतेन्दु हरिशचंद्र के सहपाठी और मित्र, विजयराघवगढ़ के राजकुमार तथा सुप्रसिद्ध साहित्यकार ठाकुर जगमोहन सिंह के लिए छत्तीसगढ़ की धरती, पहाड़, जंगल और नदी- नाले वरदान साबित हुए। ब्रिटिश शासकों ने बनारस के वाड्र्स इंस्टीट्यूट से शिक्षा प्राप्त ठाकुर जगमोहनसिंह को सन 1880 में नायब तहसीलदार बनाकर छत्तीसगढ़ के धमतरी भेजा तब उनकी मंशा रही होगी कि छत्तीसगढ़ के जंगलों में वह मर खप जायेगा और अपने राज्य की ओर ध्यान नहीं दे सकेगा? मगर छत्तीसगढ़ प्रवास उनके लिए वरदान साबित हुआ।
ठाकुर साहब सन 1880 से 1882 तक धमतरी तथा 1887 तक शिवरीनारायण तहसील के तहसीलदार रहे। उन्हें यहां की सोंधी मिट्टी, नदी- नाले, जंगल और पहाड़ का प्राकृतिक सौंदर्य बहुत अच्छा लगा, उनकी रचनाएं इसकी साक्षी हंै। यहां उनका कवि मन न केवल जागा बल्कि उसे समेटने के लिए उन्हें कोरे कागजों को रंगना पड़ा। लगभग एक दर्जन पुस्तकों का न केवल लेखन बल्कि उसका प्रकाशन करके वे अमर हो गये।
उन्होंने शिवरीनारायण में बनारस के 'भारतेन्दु मंडल' की तर्ज में 'जगन्मोहन मंडल' बनाया और यहां के बिखरे साहित्यकारों को एकसूत्र में पिरोकर उन्हें लेखन की एक दिशा दी। उस काल के साहित्यकारों में पंडित मालिकराम भोगहा, पंडित हीराराम त्रिपाठी, गोविंद साव, महंत अर्जुनदास, महंत गौतमदास, शिवरीनारायण, पंडित अनंतराम पांडेय रायगढ़, पंडित मेदिनीप्रसाद पांडेय परसापाली-रायगढ़, वेदनाथ शर्मा बलौदा, पंडित पुरूषोत्तम प्रसाद पांडेय बालपुर, जगन्नाथ प्रसाद भानु, पृथ्वीपाल तिवारी बिलाईगढ़ के नाम उल्लेखनीय हैं।
ठाकुर जगमोहन सिंह हिन्दी के प्रसिद्ध प्रेमी कवियों रसखान, आलम, घनानंद, बोधा ठाकुर और भारतेन्दु हरिशचंद्र की परंपरा के अंतिम कवि थे, जिन्होंने प्रेममय जीवन जीया और जिनके साहित्य में प्रेम की उत्कृष्ट और स्वभाविक अभिव्यंजना हुई है। प्रेम को उन्होंने जीवन दर्शन के रूप में स्वीकार किया था। उपर्युक्त तथ्यों को ठाकुर जगमोहन सिंह की रचनाओं के संग्रह 'श्यामा' में संग्रहित और संपादित करने वाले प्रो. अश्विनी केशरवानी भी महानदी से संस्कारित पौध हैं। उन्होंने इस पुस्तक में ठाकुर साहब की शिवरीनारायण से संबंधित रचनाओं जैसे सज्जनाष्टक, प्रलय, श्यामा सरोजनी के साथ नवोढ़ादर्श और पं. रामलोचन त्रिपाठी का जीवन वृत्तांत को संग्रहित किया है। उनकी मंशा शिवरीनारायण के साथ पूरे छत्तीसगढ़ की साहित्यिक पृष्ठभूमि को रेखांकित करना है। द्विवेदी कालीन अनेक साहित्यकारों ने भी उल्लेखनीय साहित्य की रचना की और राष्ट्रीय परिदृश्य में स्थान बनाया। ठाकुर जगमोहन सिंह ने शिवरीनारायण के आठ सज्जन व्यक्तियों के व्यक्तित्व का रेखांकन 'सज्जनाष्टकÓ में किया है जो सन 1884 में भारत जीवन प्रेस बनारस से प्रकाशित हुआ। उसकी एक बानगी-
रहत ग्राम एहि बिधि सबै सज्जन सवब गुन खान।
महानदी सेवहिं सकल जननी सब पय पान।।
प्रलय में 1885 में महानदी के बाढ़ और उससे होने वाली तबाही का सुंदर छंद में वर्णन है-
शिव के जटा विहारिनी बही सिहावा आय।
गिरि कंदर मंदर सबै टोरि फोरि जल जाय।।
राजिम, श्रीपुर से सुभग चम्पव उद्यान।
तीरथ शबरी विष्णु को तारत वही सुजान।।
सम्बलपुर चलि कटक लौ अटकी सरिता नाहि।
सरित अनेकन लय कटकपुरी पहुंच जल जाहि।।
हालांकि इस पुस्तक में ठाकुर साहब के बहुचर्चित उपन्यास 'श्यामा' को सम्मिलित नहीं किया गया है मगर उसके बारे में अवश्य लिखा गया है। उनकी कृतियां आज उपलब्ध नहीं हैं, मगर जो उपलब्ध हैं उसका संग्रह और प्रकाशन करना निश्चित रूप से सराहनीय कार्य है।
समीक्षक- प्रांजल कुमार, वेन, न्यू जर्सी, यू.एस.ए.
पुस्तक: श्यामा
रचनाकार: ठाकुर जगमोहनसिंह
संपादक: प्रो. अश्विनी केशरवानी
प्रकाशक: श्री प्रकाशन, दुर्ग छत्तीसगढ़
मूल्य: 200 रुपए

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष