February 25, 2009

सास गारी देवे, देवरजी समझा लेवे...

रहमान के संगीत निर्देशन में गूंजी छत्तीसगढ़ की ददरिया
पिछले दिनों राकेश ओमप्रकाश मेहरा की नई फिल्म दिल्ली 6 का म्यूजिक एलबम जैसे ही बाजार में आया वैसे ही इसमें शामिल एक लोग गीत को सुनते ही छत्तीसगढ़ के लोग चौक गए, क्योंकि इस फिल्म में ए आर रहमान ने छत्तीगढ़ के एक बहुत ही प्रसिद्ध और चर्चित लोक गीत- सास गारी देवे, ननद मुंह लेवे, देवर बाबू मोर .... को अपनी जादुई संगीत से सजाया है। जाहिर है रहमान के संंगीत में सजा यह लोक गीत कानों में रस घोलता ही है, यद्यपि इस गीत के बोल हूबहू वैसे नहीं हैं जैसा कि यहां के लोक गीत में उसे गाया जाता है।
इस छत्तीसगढ़ी लोक गीत के बारे में रायपुर आकाशवाणी में कार्यरत वरिष्ठ अधिकारी सहायक केन्द्र निदेशक श्रीमती ममता चंद्राकर से हमने कुछ खास जानकारी हासिल की है। ममता जो स्वयं छत्तीसगढ़ की प्रसिद्ध लोक गायिका हैं और उन्होंने लोक संगीत के क्षेत्र में अपना एक विशेष मुकाम बनाया है। उन्होंने सास गारी देवे... गीत के बारे में बताया कि 1965-70 के दौर में इस गीत ने छत्तीसगढ़ में खूब धूम मचाई थी। इसकी लोकप्रियता को देखते हुए एच. एम. वी. ने इसका रिकार्ड प्लेयर भी बनाया था। आज यह रिकार्ड प्लेयर किसी के पास होगा यह मेरी जानकारी में नहीं है। बाद में इसकी कॉपी करके सुनहरे पल नाम से सीडी बनी। मूल रुप में इस गीत के बोल ददरिया के हैं। प्रसिद्ध नाट्य कर्मी हबीब तनवीर जी अपने नाचा में इस लोक गीत का प्रयोग करते थे। उनके नाचा में छत्तीसगढ़ की कलाकार और लोक गीतकार बरसन बाई इसे गाया करती थीं। उनका यह गीत आकाशवाणी रायपुर में खूब बजता था, तथा संगीत प्रेमी इसकी फरमाईश किया करते थे। (ममता के पास से प्राप्त छत्तीसगढ़ के इस लोक गीत की सीडी में बरसन बाई और चम्पा की आवाज के साथ स्वयं हबीब तनवीर ने भी अपनी आवाज दी है। बाद में उनकी नाट्य मंडली में छत्तीसगढ़ की एक और प्रसिद्ध अदाकारा फिदा बाई उनके कई नाचा कार्यक्रमों में इसे गाया करती थीं। फिदा बाई हबीब तनवीर के नाट्य संस्था की वह अदाकारा हैं जिन्होंने उनके कई प्रसिद्ध नाटकों जैसे चरनदास चोर, बहादुर कलारिन, आगरा बाजार, मिट्टी की गाड़ी तथा गांव के नाव ससुराल मोर नाव दमाद आदि में बेहतरीन अदाकारी की मिसाल पेश कर छत्तीसगढ़ को गौरवान्वित किया है।
दिल्ली 6 में शामिल इस लोक गीत को कुछ लोग राजस्थान का लोक गीत भी कह रहे हैं, यदि वहां भी इस तरह के बोल के गीत गाए जाते हों तो कोई आश्चर्य नहीं, परंतु रहमान की धुन से सजे दिल्ली 6 के इस गीत को सुनने के बाद तो यही लगता है कि इसकी धुन भी छत्तीसगढ़ की है। क्योंकि ममता से प्राप्त सीडी में जो गीत उपलब्ध है उसमें उसकी धुन मिलती जुलती है। गीत के बोल जरुर अलग अलग है पर दिल्ली 6 में इस लोकगीत को रहमान ने बहुत ही मधुर संगीत से सजाया है। जो कर्णप्रिय है।
ममता चन्द्राकर के पास से प्राप्त सीडी
में इस गीत के बोल -
सास गारी देवे, ननंद मुंह लेवे, देवर बाबू मोर
सैंया गारी देवे, परोसी गम लेवे, करार गोंदा फूल
अरे... केरा बारी म डेरा देबो चले के बेरा हो ऽऽऽ (2)
आये ब्यापारी गाड़ी में चढ़ीके,
तोला आरती उतारंव थारी में धरीके हो
करार गोंदा फूल
सास गारी देवे....
चितरी ले पइसा ल बीरी ले रीतेंव
मोर साइकल के चढैय़ा ला चिन्ही ले रीतेंव ग
करार गोंदा फूल
सास गारी देवे...
राम धरे बर्छी लखन धरे बाण
सीतामाई के खोजन बर
निकलगे हनुमान ग करार गोंदा फूल
सास गारी देवे ...


पहिरे ल पनही खाए ल बीरा पान
मोर रायपुर के रहईया चल दिस पाकिस्तान ग
करार गोंदा फूल
केरा बारी म डेरा देबो चले के बेरा हो ऽऽऽ
सास गारी देवे....
तथा फिल्म दिल्ली 6 में गाए गए
गीत के बोल-
ओय होय ओय होय-
होय होय होय होय होय होय .....(4)
सैंया छेड़ देवें, ननद चुटकी लेवे ससुराल गेंदा फूल
सास गारी देवे, देवरजी समझा लेवे, ससुराल गेंदा फूल
छोड़ा बाबुल का अंगना, भावे डेरा पिया का हो
सास गारी देवे, देवरजी समझा लेवे ससुराल गेंदा फूल...


सैंया है व्यापारी, चले है परदेश
सुरतिया निहारूं जियरा भारी होवे, ससुराल गेंदा फूल....
सास गारी देवे देवरजी समझा लेवे, ससुराल गेंदा फूल
सैंया छेड़ देवे, ननद चुटकी लेवे, ससुराल गेंदा फूल...


छोड़ा बाबुल का अंगना भावे डेरा पिया का हो !
बुशर्ट पहिने खाईके बीड़ा पान, पूरे रायपुर से अलग है
सैंया...जी की शान ससुराल गेंदा फूल ....


सैंया छेड़ देवे, ननद चुटकी लेवे ससुराल गेंदा फूल ...
सास गारी देवे, देवरजी समझा लेवे ससुराल गेंदा फूल
छोड़ा बाबुल का अंगना ,भावे डेरा पिया का हो ....
ओय होय ओय होय-
होय होय होय होय होय होय .....(4)
इस गीत को रेखा भारद्वाज, श्रद्धा पंडित और सुजाता मजुमदार ने बेहद सुरीली आवाज में मिठास के साथ गाया है। रहमान ने इसमें छत्तीसगढ़ के बांस गीत की धुन का इस्तेमाल भी किया है ऐसा बताया जा रहा है, इसमें कितनी सच्चाई है पता लगाना बाकी है। फिल्म में इस गीत के दृश्य में अभिनेता अभिषेक बच्चन ने तो अपनी खास अदा में नृत्य किया ही हैं साथ ही अपने समय की प्रसिद्ध अभिनेत्री और नृत्यांगना वहीदा रहमान ने भी ठुमके लगाए हैं।
फिल्म के गीत और छत्तीसगढ़ के इस मूल गीत को सुनने के बाद महसूस हुआ कि दिल्ली 6 के निर्माता, निर्देशक, गीतकार और संगीतकार यदि इस बात की पुष्टि कर लेते कि इस गीत के वास्तविक बोल क्या हैं, तो गीत को और भी अधिक सुंदर बनाया जा सकता था।
इसके बाद भी हम छत्तीसगढ़ वासियों को खुश होना चाहिए कि उनके क्षेत्र का एक लोक गीत अब पूरे देश में लोगों की जुबान पर होगा, इससे छत्तीसगढ़ को एक विशेष पहचान तो मिलेगी ही साथ ही यहां का लोकसंगीत भी राजस्थान के लोक संगीत की तरह दुनिया के अन्य कोने में भी अपनी पहचान कायम कर पाएगा। रहमान का नाम यूं भी इन दिनों अंतरराष्ट्रीय स्तर पर छाया हुआ है, वे ऑस्कर के हकदार माने जा रहे हैं। ऐसे में उनके संगीत निर्देशन में छत्तीसगढ़ के लोक धुन और लोक गीत पर संगीत देना बड़ी बात है। खासकर एक ऐसे दौर में जब हम अपनी लोक कलाओं को सहेजने की दिशा में विशेष प्रयत्नशील नजर नहीं आते।
(उदंती फीचर्स)

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष