उदंती.com को आपका सहयोग निरंतर मिल रहा है। कृपया उदंती की रचनाओँ पर अपनी टिप्पणी पोस्ट करके हमें प्रोत्साहित करें। आपकी मौलिक रचनाओं का स्वागत है। धन्यवाद।

Jul 25, 2017

बारिश...

बारिश... 

– सुशीला शिवराण

1.सुनो वीरबहूटी!
इन बारिशों में
मन की सीली सुनहली रेत पर
सिंदूरी-मखमली अहसास-सी
मेरा बचपन लिये
लौट आओ ना !
कि
जेठ की जलती धूप में
काली-पीली आँधियों में
पत्थर-सी तपी हूँ
रेत-सी जली हूँ
अब के बरस
मेरे हिस्से का सावन
काठ की गाड़ी
गुड्डा-गुड्डी
गोटे की चूनर
चाँद का चँदोवा
रेत का घरौंदा
बारिशों का नहाना
तलैया की छपाक
धनक की चाप
सावन का गीत
वोमीठी-सी तान -
'मोटी-मोटी छाँटां
ओस्रयो ए बादलड़ी
सावणरुत आई म्हारा राज
सुरंग रुत आई म्हारा राज

बस इतना ही
ज्यादा नहीं
ले आओ वीरबहूटी !
लाओगी ना ?

2.धरती की गोदभराई
रेत के जलते जिस्म से
धधकती है प्यास
उठती हैं चाहतों की आँधियाँ
बेचैनियों के बवंडर

इश्क के दरिया से
भाप बन उड़ते हैं ज़ज्बात
पर्वतों को क़ासिद बना
बुलाते हैं बेपरवाह बादलों को
सुनाते हैं बिरहन रेत का दर्द
और बादल?
खोकर आपा
बरस पड़ते हैं मूसलाधार

रेत के जलते जिस्म पर
टूटकर बरसता है इश्क
भिगोता है पोर-पोर
बुझाता है रूहों की प्यास

बो जाता है
उम्मीदों के हरियल बीज
कर जाता है
धरती की गोदभराई
अँखुआती हैं
मिलन की निशानियाँ
रेत के गदराए बदन पर
लहलहाती है ख़ुशी की इबारत
झूम-झूम देती है
इश्क की गवाही।

3.ए बारिश!

ए बारिश !
इतना भी न बरस
कि भीतर तक भीग चुके
गीले तटबंध
भरभराकर ढह जाएँ

लबालब नदी का उफ़ान
कहीं तोड़ न दे तटबंध
बहा ले जाए मर्यादाएँ

सुन तो बारिश !
कहीं बह न जाए
प्रतीक्षा की अकुलाहट
मिलन की छटपटाहट
मीठा-सा दर्द
अनकही-सी लगन
बावरा-सा मन
बह जाए मगन

ए बारिश !
इतना भी न बरस
कि
ढह जाए
आस का घर
मन का नगर
बची रहे
आँसुओं की धार
पीड़ा अपार
टुकड़े-टुकड़े जीवन
डूबता मन उपवन
ए बारिश !
इतना भी न बरस      

सम्पर्क: 09650208745, sushilashivran@gmail.com

No comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।