March 14, 2014

रंगो की सौगात

रंगो की सौगात















-डॉ.जेनी शबनम

धरती रँगी
सूरज नटखट
गुलाल फेंके!
तन पे चढ़ा
फागुनी रंग जब
मन भी रँगा!


-डॉ.ज्योत्स्ना शर्मा
चुपके से आ
सूरज ने बिखेरा
लाल गुलाल।
झूमते तरु
सुवासित पवन
बौराई फिरे।
हँसे दिशाएँ
मुस्कुराया चमन
चटकी कली।

-सीमा स्मृति
बरसे रंग
जि़न्दगी का कैन्वास
बदले पल।
छींटे नहीं, ये
रंग थे, सतरंगी
ओढ़े जि़न्दागी।

-अनुपमा त्रिपाठी
रंग बिरंगी
बसंत की सौगातें
फूलों की बातें।
बुन ले गुण
रंग छाई बहार
मन फागुन!
फागुन गीत
निर्झर बहे धारा
ढूँढे किनारा।

-अनिता ललित
फागुनी रुत
खिले टेसू के फूल
महके दिल!
पहली होली
पहली वो फुहार
न भूले दिल!
याद जो आए
बचपन की होली
उदास दिल!

-हरकीरत हीर
लग जा गले
मिटाकर दुश्मनी
होलिका जले।
भीगी अखियाँ
भीगा है तुझ बिन
मन होली में।

-शशि पुरवार
सपने पाखी
इन्द्रधनुषी रंग
होरी के संग
रंग अबीर
फिजा में लहराते
प्रेम के रंग

-प्रियंका गुप्ता
प्रेम का रंग
जब मन पे चढ़े
छूट न पाए।
यादें-अबीर
धीरे से लगा जाती
मन सहेली।
सुख और दुख
जीवन-पिचकारी
भर के मारे।

-सुभाष लखेड़ा
जरूर खेलें
रंगों से यह होली
मीठी हो बोली।
आई होली है
न  शिकवे न गिले                                                                        
  प्रेम से मिलें।

Labels:

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home