July 10, 2020

तू रुककर न देख

तू रुककर न देख

- डॉ. गिरिराज शरण अग्रवाल

ज़िंदगी में डर बहुत हैं, पर उन्हें दमभर न देख
रास्ते में गर निकल आया तो फिर पत्थर न देख

दोस्ती हर पल बदलती है, नया कानून है 
देख ले किस किसको मिलती है, मगर अंदर न देख

कब कहा था रास्ते आसान हैं, ए ज़िंदगी 
पर मिली है तो इसे जीबारहा मुड़कर न देख

आने वाली रुत डरायेगी तुझे मालूम था 
पतझरों से डर नहीं, वीरानियाँ जीकर न देख

जिसको चाहो वह मिले अक्सर जरूरी तो नहीं 
अवसरों को छीन ले, अलगाव में जीकर न देख

एक पल संकल्प का सुलझा ही देगा गुत्थियाँ
मंज़िलें मिलकर रहेंगी, दोस्त तू रुककर न देख

Labels: ,

2 Comments:

At 20 July , Blogger प्रीति अग्रवाल said...

एक पल संकल्प का...बहुत सुंदर ग़ज़ल आदरणीय!

 
At 26 July , Blogger Sudershan Ratnakar said...

एक पल संकल्प का सुलझा ही देगा गुत्थियाँ
मंज़िलें मिलकर रहेंगी, दोस्त तू रुककर न देख
बहुत सुंदर ग़ज़ल ।बधाई

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home