March 23, 2012

बाथ टब की होली

-रचना श्रीवास्तव

... यहाँ अपने देश जैसी बात है कहाँ दोस्तों, घर के बाहर खेला तो शिकायत होगी और जो लीजिंग ऑफिस के लोग है न वो जुर्माना कर देंगे। होली के दिन फटका (चूना) लग जायेगा। ...और घर के अंदर खेलें तो कार्पेट गंदा होगा और उसकी सफाई ख़ुद से तो होगी नहीं किसी को बुलाना होगा और उसके लिए देने होंगे आपनी गाढ़ी कमाई के कीमती डॉलर... तो क्या किया जाए ...।
अपने देश से यहाँ आ के बहुत कुछ पाया पर इस बहुत कुछ पाने में जो खोया वो बहुत कुछ से बहुत ज्यादा था। अपने देश जैसी बात तो यहाँ है नहीं विशेष कर जब बात हो त्यौहारों की। सब कुछ जैसे छोटा हो जाता है एक जगह में सिमट जाता है। आप सोच रहे होंगे की मैं अचानक ये क्या रोना लेके बैठ गई। जानते है अभी होली आई थी आई थी न... अरे भाई आई थी मैं इस बात को बात बार- बार क्यों कह रही हूँ आप के लिये नहीं ख़ुद को यकीन दिला रही हूँ की हाँ यहाँ भी आई थी होली। मंै आप को बताना चाहती हूँ कि मैं एक संवेदनशील लड़की हूँ और हर चीज मैं संवेदनाओं के साथ हास्य भी ढूँढ लेती हूँ अब आप सोचेंगे कि मैं क्या कहना चाहती हूँ आप पढ़ते रहिये मै बताती जा रही हूँ अरे रुक गए नहीं- नहीं, रुकिए नहीं पढ़ते रहिये, हाँ तो होली आई यहाँ पर यानी डलस में। यहां होली सिकुड़ के मन्दिर के प्रांगण में भले ही सिमट जाती है लेकिन वहाँ मेला -सा लग जाता है। फिर भी अपने देश वाली बात कहाँ... वहां तो रंग भी लगाया जाता है तो एक दूसरे को पूछ- पूछ कर ...क्यों भाई रंग लगा दूँ, यदि हाँ तो लगा दिया यदि नहीं पूछा और रंग लगा दिया और खुदा न खास्ता उसको रंग से अलर्जी हुई तो बस आप की होली के रंग में भंग हो सकता है।
होली के दिन यहाँ आनंद बाजार भी लगता है, ये मुझको बहुत पसंद है खूब खाओ... अलग- अलग पकवान... पर जानते हैं मैं जहाँ रहती हूँ डेनटन में वहां से मन्दिर 50 मिनट की ड्राइव पर है, अब इतनी लम्बी दूरी तय कर के बच्चों को ले कर जाओ फिर रंग लगाओ वह भी पूछ -पूछ कर। है न कितनी मेहनत का काम... ऐसा नहीं है कि मैं गई नहीं हूँ, मैं गई हूँ तभी तो आपको ये सब बता रही हूँ तब मेरे साथ मेरी बेटी ही थी। अब इन छोटू महाराज के आने के बाद तो थोड़ा और मुश्किल हो गया। ...तो मैंने सोचा कि क्यों न इस बार घर में ही होली मनाई जाये। अब सोच तो लिया पर कहाँ किस जगह खेलूं ये बहुत बड़ी समस्या आ गई। आप हँस रहे है ? कह रहें होंगे की भाई घर है, वहीं खेलो, सड़क है वहां खेलो इतना सोचने की क्या बात है। हूम... यहाँ अपने देश जैसी बात है कहाँ दोस्तों, घर के बाहर खेला तो शिकायत होगी और जो लीजिंग ऑफिस के लोग हंै न वो जुर्माना कर देंगे। होली के दिन फटका (चूना) लग जायेगा। ...और घर के अंदर खेलें तो कार्पेट गंदा होगा और उसकी सफाई ख़ुद से तो होगी नहीं किसी को बुलाना होगा और उसके लिए देने होंगे आपनी गाढ़ी कमाई के कीमती डॉलर... तो क्या किया जाए ...। फिर नजर गई रेस्टरूम पर यानी की बाथरूम पर। बस फिर क्या था हम घुस गए बाथटब में । खूब रंग लगाया एक दूसरे को। बच्चों को भी मजा आया, क्योंकि आज के दिन तो अपने घर पर माँ खुद घर को गंदा करने को कहती थी। खूब रंग उछाला गया। थोड़ा डर तब भी था दीवारों का। उसके बाद बाथ टब में पानी भरा गया उसमें रंग डाला गया और उसमें डुबकी लगाई गई। मेरी बेटी तो बहुत खुश थी। कहती है की आइ लाइक कलर बाथ... तो कलर बाथ के बाद साफ पानी से नहाकर सभी बाहर आ गये....और ऐसे हुई हमारी बाथ टब की होली...।
पर एक बात बताऊँ जब अपने देश भारत में रंग खेलते थे तो बाद में बहुत नींद आती थी उसी तरह से बाथ टब होली के बाद भी खूब नींद आई। दोस्तों यदि आपके पास अपना घर है तो आप बैक यार्ड में होली खेल सकते हैं, पर नहाना भी वहीं पड़ेगा क्योंकि रंग में भीगे हुए आप घर के अंदर नहीं जा सकते वरना कार्पेट खराब होगा। तो अच्छा है की मेरी तरह बाथ टब की होली खेल कर ही होली का भरपूर मजा लिया जाए... जानते हंै, मैं चाहती थी कि होली की मस्ती को बस यहीं पर खत्म करके आराम करूँ। मगर इसके आगे तो और भी बहुत कुछ था... शाम को घर पर एक छोटी-सी पार्टी रखी थी। खाना तो पहले से ही बना लिया था। पूड़ी- कचौरी तलनी थी। पर भइया यहाँ का घर है तलने से पहले बहुत इंतजाम करने पड़ते हंै -खिड़की खोलो महक सोखने वाली मोमबत्ती जलाओ, तब जाकर तलो वरना आने वालों को परेशानी होगी, और आपके घर में खाने की खुशबू भर जायेगी। सब हो गया लोग आ गये। हँसी ठहाकों के साथ गपशप करते करते थोड़ी रात हुई तो हमको अपनी आवाज धीमी करना पड़ी, क्योंकि पड़ोसियों तक हमारी आवाज नहीं पहुँचना चाहिए.... क्या अपने देश में हम कभी ऐसा सोचते हैं कि पड़ोस में रहने वाले को कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए... हम तो अपने घर के मालिक होते हैं जितनी मर्जी होगी उतना शोर मचाएंगे। और तो और लाउड स्पीकर लगा कर शोर मचाएंगे। किसी की परीक्षा है या कोई बीमार है, हमारी बला से खाना खाने के बाद मंैने घर आए सभी मेहमानों का मजाकिया टाइटिल देकर उनका खूब मजाक उड़ाया और जाते- जाते सबको एक टीका लगाकर कहा बुरा न मानो होली है... तो ऐसी रही भारत से हजारों किलोमीटर दूर अमरीका के डलस शहर की होली.....कभी आपका भी होली खेलने का मूड हो तो आ जाइये... अगली होली पर...

संपर्क: डलस, यू एस ए ,Email- rach_anvi@yahoo.com

2 Comments:

KAHI UNKAHI said...

परदेश जा कर अपने देश की छोटी-छोटी चीजें, चाहे वह अच्छी हो या बुरी, कितना याद आती है, यह रचना जी की इन यादों को पढ़ कर साफ़ पता चलता है...। इन प्यारी खुशनुमा यादों को हमारे साथ बाँटने के लिए रचना जी का आभार और बधाई भी कि आखिरकार वे होली खेल तो पाई...।

ऋता शेखर मधु said...

वाह!हमें तो पढ़कर बहुत मजा आया...बाल्टी से रंग नहीं डाली गई...बाथ टब में होली खेली गई|भई, कुछ तो हुआ.

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष