April 10, 2011

शिव की नगरी ताला


मंदिर के वास्तुकला, शिल्पकला के अनुसार देवरानी मंदिर किसी अधिष्ठात्री देवी (पार्वती स्वरूप) की मंदिर रही होगी, जहाँ पशुबलि की भी प्रथा थी, जो पुरावशेषों के प्रमाण के रूप में आज भी विद्यमान है।
छत्तीसगढ़ में बिलासपुर से 30 किलोमीटर दूर अमठी-कांपा ग्राम के समीप मनियारी नदी के तट पर स्थित 'ताला में दो शैव मंदिर हैं, जो देवरानी- जेठानी के नाम से विख्यात हैं। जेठानी मंदिर अत्यंत ही खराब हालत में है जबकि देवरानी मंदिर की स्थिति अपेक्षाकृत बेहतर है। ये दोनों मंदिर अपनी विशिष्ट कला के कारण प्रसिद्ध हैं। प्रति वर्ष माघ पूर्णिमा में यहाँ पर मेले का आयोजन किया जाता है। ताला के पास ही एक और ऐतिहासिक नगर 'मल्हार' मात्र पांच किलोमीटर दूरी पर स्थित है।
भारतीय पुरातत्व के पहले महानिदेशक एलेक्जेन्डर कनिंघम के सहयोगी जे.डी. बेलगर को ताला गांव की सूचना 1873-74 में तत्कालीन कमिश्नर फिशर ने दी। एक विदेशी पुरातत्ववेत्ता महिला जेलियम विलियम्स ने इसे चन्द्रगुप्त काल का मंदिर बताया है। ताला मंदिर के भग्नावशेष में ईंट मिलने से ऐसा प्रतीत होता है कि मंदिर निर्माण में ईंट से किया गया था। अत: पुरातत्ववेत्ता इसके काल का निर्धारण पांचवी- छठवीं शताब्दी का करते हैं जिसका जीर्णोद्धार कलचुरि राजवंश में हुआ था। इतिहासकारों के अनुसार इस मंदिर को शरभपुरीय शासकों के राजप्रसाद की दो रानियों देवरानी- जेठानी ने बनवाया है। जेठानी मंदिर की सफाई के समय दो मुद्राये प्राप्त हुईं जिसमें एक शरभपुरी शासक की रजत मुद्रा तथा दूसरी रतनपुर के कलचुरि शासक की जिसमे श्रीमद् रत्नदेव अंकित है।
मंदिर के वास्तुकला, शिल्पकला के अनुसार देवरानी मंदिर किसी अधिष्ठात्री देवी (पार्वती स्वरूप) की मंदिर रही होगी, जहाँ पशुबलि की भी प्रथा थी, जो पुरावशेषों के प्रमाण के रूप में आज भी विद्यमान है। जेठानी मंदिर के चारो ओर खुला होने का कारण पूजा, अनुष्ठान व यज्ञस्थल रहा होगा। भग्नावशेषों में प्राप्त दशमहाविद्या की देवी धुमावती की प्रतिमा से प्रतीत होता है कि यह तंत्र साधना का शक्ति केन्द्र एवं ज्योतिष का बहुत बड़ा केन्द्र रहा होगा। प्राप्त पुरावशेषों में मानव, पशुओं के जीवन संहार का शिल्पांकन इसका प्रमाण है। असमानुपातिक भव्य जीव- जन्तुओं एवं देवी- देवताओं, स्त्री- पुरुष प्रतिमाओं का शिल्पांकन, पुरावशेषों में मानव, पशुओं के जीवन- संहार का प्रमाण है।
देवरानी मंदिर 15 मीटर की दूरी पर है। जेठानी मंदिर एवं विशाल जगमोहन ध्वस्त अवस्था में है। ये दोनों ही शिवमंदिर हैं। मंदिर के तल विन्यास में आरंभिक चन्द्रशिला और सीढिय़ों के बाद अर्धमंडप, अन्तराल गर्भगृह तीन प्रमुख भाग हैं। मंदिर की सीढिय़ों पर शिव के यक्षगण और गंधर्वो की सुन्दर आकृतियां डोलोमटिक लाइमस्टोन पर खुदी हुई हैं। मनियारी नदी में मिलने वाले पत्थरों का प्रयोग यहां किया गया है। निचले हिस्से में शिव- पार्वती विवाह के दृश्य उत्कीर्ण हैं। प्रवेश द्वार के उत्तरी पाश्र्व में दोनों किनारों में विशाल स्तंभ के दोनों और 6- 6 फीट के हाथी बैठी मुद्रा में हैं। दक्षिण की और मुख्य प्रवेश द्वार के अलावा पूर्व और पश्चिम दिशा में भी द्वार हैं। मुख्य प्रवेश द्वार पर पत्थरों के कलात्मक स्तंभ हैं।
उत्खनन से प्राप्त अतिरिक्त मूर्तियों में चतुर्भुज कार्तिकेय की मयूरासन प्रतिमा है। द्विमुखी गणेश की प्रतिमा अपने दांत को एक हाथ में लिए चन्द्रमा में प्रक्षेपन के लिए उद्यत मुद्रा में है। अर्धनारीश्वर, उमा- महेश, नागपुरूष, यक्ष मूर्तियों में अनेक पौराणिक कथानक झलकते हैं। शाल भंजिका की भग्न मूर्ति में शरीर सौष्ठवता व कलात्मक सौन्दर्य का संतुलित प्रयोग किया गया है। एक विशाल चतुर्भज प्रतिमा जिसकी भुजाएँ तथा आयुध खंडित हंै की भाव भंगिमा से महिषासुरमर्दिनी की मूर्ति का बोध होता है।
देवरानी- जेठानी मंदिर विशिष्ट तल विन्यास, विलक्षण प्रतिमा निरूपण तथा मौलिक अलंकरण की दृष्टि से भारतीय कला में विशेष रूप से चर्चित है। उत्खनन के बाद के अध्ययन से पता चलता है कि ईसा पूर्व से दसवीं शताब्दी तक यह अत्यंत समृद्ध स्थल रहा होगा। मूर्तियों की शैली और प्राप्त अवशेषों से पता चलता है कि लंबे काल तक यह स्थल विभिन्न संस्कृतियों की धर्मस्थली रही होगी जो शैव पूजक थी साथ ही यह स्थान तांत्रिकों की अनुष्ठान स्थली भी रही होगी। पर्यटन की दृष्टि से ताला के इस पुरातात्विक स्थल के विकास के लिए विभिन्न योजनाओं को सरकार द्वारा मंजूर दी गई है।
देवरानी मंदिर के उत्खनन में प्राप्त रुद्रशिव की विशाल प्रतिमा छत्तीसगढ़ के इस क्षेत्र को पुरातत्व की दृष्टि से और भी महत्वपूर्ण बना देती है।
रूद्रशिव की विशाल प्रतिमा
शिल्पी ने प्रतिमा के शारीरिक विन्यास में पशु पक्षियों का अद्भुत संयोजन किया है। विद्वानों के अनुसार महाकाल रूद्रशिव की प्रतिमा का अलंकार बारह राशियों एवं नौ ग्रहों के साथ हुआ है।
भारतीय शिल्प में मूर्ति निर्माण की परंपरा बहुत ही प्राचीन काल से चली आ रही है। कला इतिहासकारों ने इन प्रतिमाओं को उनके लक्षण एवं शैलियों के आधार पर विवेचनाएं प्रस्तुत की हैं किन्तु कभी- कभी ऐसी विलक्षण प्रतिमाएं मिल जाती हैं जो पुरातत्व वेत्ताओं एवं कला इतिहासज्ञों के लिए समस्या बन जाती है। ऐसी ही एक अद्भुत प्रतिमा छत्तीसगढ़ में बिलासपुर जिले के ताला गांव में प्राप्त हुई है।
वर्ष 1987-88 में देवरानी मंदिर के परिसर में उत्खनन के दौरान यह विलक्षण प्रतिमा मिली है। यह प्रतिमा भारतीय कला में अपने ढंग की एकमात्र ज्ञात प्रतिमा है। शैव सम्प्रदाय से संबधित इस प्रतिमा का शिल्प अद्भुत है। शिव के रूद्र अथवा अघोर रूप से सामंजस्य होने के कारण सुविधा की दृष्टि से इसका नामकरण रूद्रशिव किया गया है। ताला से प्राप्त प्रतिमाओं में यही एक मात्र लगभग परिपूर्ण प्रतिमा है।
यह विशाल प्रतिमा 9 फुट ऊंची एवं 5 टन वजनी। इसमें शिल्पी ने प्रतिमा के शारीरिक विन्यास में पशु पक्षियों का अद्भुत संयोजन किया है। विद्वानों के अनुसार महाकाल रूद्रशिव की प्रतिमा का अलंकार बारह राशियों एवं नौ ग्रहों के साथ हुआ है।
विभिन्न जीव -जन्तुओं की मुखाकृति से इसके अंग-प्रत्यंग निर्मित होने के कारण प्रतिमा में रौद्र भाव संचारित है। प्रतिमा समपाद स्थानक मुद्रा में प्रदर्शित है। इस महाकाय प्रतिमा के रूपांकन में गिरगिट, मछली, केकड़ा, मयूर, कच्छप सिंह आदि जीव- जन्तु तथा मानव मुखों की मौलिक प्रकल्पना युक्त रूपाकृति अत्यंत ओजस्वी है। इसके शिरोभाग पर मंडलाकार चक्रों में लिपटे हुये गिरगिट के पृष्ठ भाग से नासिका रंध्र, सिर से नासाग्र तथा पिछले पैरों से भौंह निर्मित है। बड़े आकार के मेंढक के विस्फारित मुख से नेत्र पटल तथा कुक्कट के अंडे से नेत्र गोलक बने है। छोटे आकार के प्रोष्ठी मत्स्य से मूंछे तथा निचला ओष्ठ निर्मित है। बैठे हुए मयूर से कान रूपायित हैं।
कंधा मकर मुख से निर्मित है। भुजायें हाथी के शुंड के सदृश्य हैं तथा हाथों की अंगुलियां सर्प मुखों से निर्मित हैं। वक्ष के दोनों स्तन तथा उदर भाग पर मानव मुख दृष्टव्य है। कच्छप के पृष्ठ से कटिभाग, मुख से शिश्न और उसके जुड़े हुये दोनों अगले पैरो से अंडकोष निर्मित है। अंडकोष पर घंटी के सदृश्य जोंक लटके हुये हंै। दोनों जंघाओं पर हाथ जोड़े विद्याधर तथा कटि पाश्र्व में दोनों ओर एक-एक गंधर्व की मुखाकृति है। दोनों घुटनों पर सिंह मुख अंकित है। स्थूल पैर हाथी के अगले पैर के सदृश्य हैं। प्रमुख प्रतिमा के दोनों कधों के ऊपर दो महानाग पाश्र्व रक्षक के सदृश्य फन फैलाये हुए स्थित है। पैरों के समीप उभय पाश्र्व में गर्दन उठाकर फन काढ़े हुए नाग अनुचर दृष्टव्य हैं।
प्रतिमा के दांये में स्थूल दण्ड का खंडित भाग बच हुआ है। उनके आभूषणों में हार, वक्ष- बंध तथा कटिबंध नाग के कुंडलित भाग से रूपायित हैं । वर्णित प्रतिमा के बांये हाथ में स्थित आयुध, दायें पैर के समीप स्थित नाग तथा अधिष्ठान भाग भग्न है। सामान्य रूप से इस प्रतिमा में शैव मत, तंत्र तथा योग के गृह्य सिद्धांतों का प्रभाव और समन्वय दिखलाई पड़ता है। (उदंती फीचर्स)

कैसे पहुंचे - वायु मार्ग: रायपुर 85 कि. मी. निकटतम हवाई अड्डा है। जो मुंबई, दिल्ली, नागपुर भुवनेश्वर, कोलकाता, रांची, विशाखापट्टनम एवं चैन्नई से जुड़ा हुआ है। रेल मार्ग : हावड़ा -मुंबई मुख्य रेल मार्ग पर बिलासपुर 30 कि. मी. समीपस्थ रेलवे जंक्शन है। सड़क मार्ग : बिलासपुर शहर से निजी वाहन द्वारा सड़क मार्ग से यात्रा की जा सकती है। आवास व्यवस्था : बिलासपुर नगर में आधुनिक सुविधाओं से युक्त अनेक होटल ठहरने के लिये उपलब्ध हैं।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष