October 24, 2009

हाय तौबा क्यों?

- संजीव खुदशाह
पंच हो, सरपंच हो, पार्षद हो, विधायक हो, या सांसद हो सभी की गाड़ी के नेम प्लेट पर ऐसा चिन्ह जरूर होगा। जो सुरक्षा जांच टीम पर भारी पड़ेगा और वह व्यक्ति जांच से बच जायेगा। जांच से बचा यानी इज्जत बच गई। सिर्फ इज्जत बची ही नहीं बल्कि इज्जत बढ़ भी जाती है ऐसे जांच से बचने से। देखिये कितनी काम की है ये जांच।
अमेरिकी हवाई अड्डा में  'माई नेम इज, शाहरूख खान' शाहरूख खान के ये स्टाईलिश बोल सुरक्षा हेतु लगे कम्प्यूटर को नागवार गुजरे और कम्प्युटर ने सुरक्षा अधिकरियों को गहन जांच के आदेश दे दिये लगभग दो घंटे तक शाहरूख खान को जांच हेतु रोके रखा बाद में पूरी संतुष्टि पश्चात छोड़ दिया। इस पर भारतीय मीडिया ने खूब हाय तौबा मचाई शाहरूख खान न हुए भारत के बादशाह हो गये। न्यूज चैनलों ने टी आर पी बढ़ाने का कोई भी मौका हाथ से जाने न दिया। शाहरूख की सुरक्षा जांच को भारत की बेइज्जत्ती के रूप में प्रचारित करना शुरू कर दिया। क्या भारत की इज्जत इतनी सस्ती है कि अभिनेता की सुरक्षा जांच से बेइज्जत हो जाये। जबकि गौरतलब है कि इससे पहले अमेरिका में जसवंत सिंह की जांच के दौरान कपड़े भी उतारे गये तथा कुछ दिन पूर्व पूर्व राष्ट्रपति ए.पी.जे.अब्दुल कलाम को भारत में ही अमेरिकी हवाई कम्पनी के सुरक्षा अधिकारियों ने आम आदमी की भांति रेगुलर जांच की। तब  शायद मीडिया की नींद नहीं खुली रही होगी। लेकिन बाद में कई बुद्धिजीवियों ने इन समस्त जांच पर खूब कड़ी आलोचना की तथा अमेरिका को जी भरकर कोसा भी। उनका मानना है कि वीआईपी की जांच उसकी इज्जत से खिलवाड़ है ये जांच नहीं होनी चाहिए। अमेरिका बार-बार ऐसा करके हमारी इज्जत से खिलवाड़ कर रहा है भारत को चाहिए की उसका विरोध करे।
दरअसल ऐसा सोचने वाले तथा हाय तौबा मचाने वाले लोग उसी पुरानी मानसिकता वाले लोग हैं जो वीआईपी को इन्सान, बाकी को जानवर समझते हैं। वीआईपी यानी पैसे वाला या हर वो आदमी जो आम आदमी नहीं है। भारत में हर व्यक्ति सुरक्षा या अन्य किसी भी प्रकार की जांच से बचना चाहते हैं। एक अदना से पुलिस के सिपाही को ही देख लीजिए उसकी छोटी सी मोटर सायकल में लिखा होता है बड़ा सा 'पुलिस' उद्देश्य एक मात्र सुरक्षा जांच (टे्रफिक जांच भी) से बचना। चाहे पंच हो, सरपंच हो, पार्षद हो, विधायक हो, या सांसद हो सभी की गाड़ी के नेम प्लेट पर ऐसा चिन्ह जरूर होगा। जो सुरक्षा जांच टीम पर भारी पड़ेगा और वह व्यक्ति जांच से बच जायेगा। जांच से बचा यानी इज्जत बच गई। सिर्फ इज्जत बची ही नहीं बल्कि इज्जत बढ़ भी जाती है ऐसे जांच से बच निकलने से। देखिये कितनी काम की है ये जांच। तभी तो सारे वीआईपी जेड सुरक्षा 1-4 के गार्ड की सुरक्षा लेने हेतु जुगत लगाते रहते हैं चाहे इसके लिए फर्जी फोन का सहारा ही क्यों न लेना पड़ जाये। आजकल इस फेहरिस्त में क्रिकेट खिलाड़ी, अभिनेता भी शामिल हो गये हैं। नेताओं का तो इसमें जन्मजात अधिकार था ही। फिर प्रश्न खड़ा होता है वह नेता, नेता ही कैसा जो आम आदमी से असुरक्षित है, वह खिलाड़ी सिर्फ खिलाड़ी तो नहीं है जिसे सुरक्षा चाहिए अभिनेता में क्या खोट है जो अपने चाहने वालों से असुरक्षित है।

भारत में बड़ी जबरदस्त परंपरा है जिसकी सुरक्षा में आदमी लगे हों उसकी सुरक्षा जांच नहीं होती। जब कोई हवाई जहाज से आये तो उसकी जांच नहीं होती। जब कोई ट्रेन के वातानुकूलित डिब्बे से उतरे तो उसकी जांच नहीं होती। अगर जांच की गई तो उस सुरक्षा अधिकारी की जांच चालू हो सकती है। हो सकता है बाद में उसके स्थानांतरण या निलंबन तक ये जांच चलती रहे। इससे अंदाज लग सकता है कि कितना निरंकुश है हमारा वीआईपी समाज इसी मानसिकता का फायदा आंतकवादियों को मिलता है यही कारण है कि अमेरिका में 9/11/2001 के बाद एक भी आतंकवादी हमले नहीं हुए। लेकिन भारत में पूरा कलेण्डर आतंकवादी हमलों से भरा हुआ है। आखिर क्यूं भारतीय वीआईपी सुरक्षा जांच का सामना करने से कतराता है क्या सिर्फ अहं के कारण। कितने ही आतंकवादी भारत में एक वीआईपी की तरह प्रवेश हो जाते हैं।
हाल ही में दिल्ली में हुए हमले के सभी आरोपी ट्रेन के वातानुकूलित डिब्बे में सफर करते हुए विस्फोटक सामग्री लेकर आये थे। जो वीआईपी सदृश्य होने के कारण जांच से बज गये। क्योंकि भारत में सब कुछ हो सकता है वीआईपी की जांच नहीं हो सकती यह बात देश के दुश्मन को अच्छी तरह मालूम है। क्योंकि इससे वीआईपी की इज्जत में बट्टा लग जाता है।
अभी वक्त अमेरिका पर उंगली उठाने का नहीं हैं। बल्कि उससे सीख लेने का है। यह गहन विचार का बिन्दु है कि ट्विन टावर हमले के बाद आज तक अमेरिका में कोई आतंकवादी हमला नहीं हो सका। उनकी सुरक्षा नीति से हमें सीख लेनी चाहिए।
अमेरिका आज विश्व में सर्वश्रेष्ठ है तो हमें भी अपनी आत्म- मुग्धता से बाहर आना चाहिए। उनके सर्वश्रेष्ठता के मापदण्ड को देख कर खुश होना चाहिए। जहां भारत में आम आदमी पर सारे नियम लागू होते हैं वही वीआईपी एवं पूंजीपतियों का बोल-बाला बढ़ रहा है। ऐसे में एक सरकारी ओहदेदार सरकारी खजाने को चट करने में लगा हुआ है। चाहे चारा घोटाला हो या स्टांप घोटाला या हवाला का मामला या फिर सरकारी सम्पतियों के दुरूपयोग का मामला हो। जबकि अमेरिका के राष्ट्रपति को व्हाईट हाउस में रहने एवं अपनी निजी सेवाओं का खर्च स्वयं वहन करना पड़ता है। अमेरिका में सुरक्षा जांच को महत्व देना प्रतिष्ठित नागरिक गुण माना जाता है। अमेरिका की सुरक्षा नीति ऐसी है जिसमें मंत्री, नेता, अफसर, राष्ट्रपति, सेलिब्रेटी यहां तक की जज भी जांच के दायरे से बाहर नहीं है। वहां प्रत्येक व्यक्ति को सुरक्षा जांच की कसौटी पर खरा उतरना पड़ता है। ताकि कोई भी आतंकवादी गतिविधियां न हो सके। ऐसी व्यवस्था से मजाल है कोई चिडिय़ा भी पर मार सके।
अब प्रश्न यह उठता है कि जब भारत में आतंकवाद तथा नक्सलवाद सिर चढ़ कर बोल रहा है, हमारी सुरक्षा व्यवस्था बेमानी हो रही है, जो केवल आम आदमी को परेशान करने का सबब बन गई है। तो क्या भारत अमेरिका का विरोध करने में अपनी शक्ति जाया करेगा या उनकी लाजवाब सुरक्षा नीति से कुछ सीख लेने की चेष्टा भी करेगा।

पता- 39/350 गणेश नगर, भवानी टेन्ट हाउस के पीछे,बिलासपुर, छत्तीसगढ़, पिन-495004 मोबाईल 09827497173

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष