July 25, 2012

व्यंग्यः हुए जिन्दगी से जुदा, आ लगे कतार में

- जवाहर चौधरी
इतना झंझट था तो आप लोगों को यह सब पहले बताना चाहिए। मैं पांच साल पहले ही अपना आरक्षण करवा लेता। बिना आरक्षण मैंने कभी रेलयात्रा नहीं की, अंतिम यात्रा में फंस गया। तत्काल जैसी कोई व्यवस्था नहीं है क्या?
आप कतार में हैं .... कृपया प्रतीक्षा कीजिए। किसी ने कान में फुसफुसाहट से जरा ज्यादा तेज आवाज में कहा तो शरीर में जान जैसी कुछ आई, मैंने पूछा- क्यों भई !! कतार में क्यों हैं?
शमशान में लकड़ी खत्म हो गई है। उसने बताया।
कब आएगी लकड़ी! ?
कुछ कहा नहीं जा सकता है। अभी तो वृक्षारोपण चल रहा है।
वृक्षारोपण चल रहा है !! क्या मतलब है आपका?
यही कि आप कतार में हैं , कृपया प्रतीक्षा कीजिए।
ऐसा कैसे हो सकता है! बिजली वाला शवदाहगृह भी तो है।
हां है, लेकिन बिजली लगातार नहीं आती है। अभी भी बिजली नहीं है ...यूनो ..पावर कट।
तो ! बिजली आने में कितनी देर लगेगी ! ग्यारह बजे तक तो आ जाती है।
हां, आ जाती है लेकिन वोल्टेज बराबर नहीं रहते हैं कभी।
वोल्टेज कम होते हैं ना ? इसमें दिक्कत क्या है, थोड़ा ज्यादा समय लगेगा और क्या।
ना , यह संभव तो है पर उचित नहीं है।
इसमें क्या मुश्किल है ?!
आप वेज हैं या नानवेज ?
वेज।
आपने बेकरी में मैदे को डबलरोटी में बदलते देखा है ?
डबलरोटी !
सोच लीजिए , आप राख होना चाहेंगे या डबलरोटी।
अगर नानवेज होता तो ?!
तो तंदूरी- विदाउट- मसाला हो जाते लेकिन राख नहीं।
लेकिन भइया, प्रतीक्षा का टाइम किसके पास है आजकल। शवयात्रा शुरू होने के पहले ही घड़ी देखने लगते हैं लोग।
मजबूरी है साहब, मैं कुछ नहीं कर सकता।
कुछ ले- लेवा कर रास्ता निकालो ना। लोगों का समय खराब हो रहा है।
किसका समय ?
जो मुझे शमशान पहुंचाने आए हैं।
शवयात्रा में शामिल लोग?!
और नहीं तो कौन! मेरे रिश्तेदार, मित्र, कवि-लेखक.... सब।
वे सब जा चुके हैं। उसने बताया।
अंतिम संस्कार किए बगैर!!
क्या करते बेचारे ..... आप कतार में जो हैं ....।
बिना शोकसभा और शोक-भाषण के !! ...... ऐसे ही छोड़ कर चले गए !!
ऐसे कैसे चले जाएंगे ! रसीद ले गए हैं।.... अब आप बाकायदा कतार में हैं।
कब तक रहना होगा कतार में ?
अभी तो सन् 2022 चल रहा है। जनवरी 2028 तक तो चिता-फु ल है।
इतना वेटिंग !! सोलर उर्जा का कोई सिस्टम नहीं है क्या ?
वैज्ञानिक लगे पड़े हैं , पर मशीन बनाने में दिक्कत आ रही है। अभी तो उसमें रोटी भी नहीं सिंकती है, मुर्दा क्या जलेगा।
2028 तक तो घर वाले भूल जाएंगे मुझे।
हम नहीं भूलने देंगे। यहां से रिमाइंड लेटर जाता है कि आपके मुर्दे का नंबर आ गया है।
इतना झंझट था तो आप लोगों को यह सब पहले बताना चाहिए। मैं पांच साल पहले ही अपना आरक्षण करवा लेता। बिना आरक्षण मैंने कभी रेलयात्रा नहीं की, अंतिम यात्रा में फंस गया। तत्काल जैसी कोई व्यवस्था नहीं है क्या?
इतने ही समझदार थे तो देहदान क्यों नहीं कर दी? ... कोई झंझट नहीं होता।
देहदान ! ... सरकारी अस्पताल में जिन्दा देह से ही वे इतना कुछ सीख जाते हैं कि मरी देह में उनकी कोई रुचि नहीं रह जाती है।
तो फिर कम से कम पांच पेड़ लगाना चाहिए थे, अपने मुर्दा शरीर का इंतजाम आप खुद नहीं करोगे तो नगर निगम के भरोसे में कतार ही मिलेगी। पहले तो ठीक से काम करते नहीं हो बाद में नखरों का बाजा बजाने लगते हो।
शिकायत मत करो। शिकायतें सुन सुन कर ही मरा हूं मैं। अब क्या हो सकता है बताओ।
बड़ा मुश्किल है। चिल कव्वे भी तो लुप्त हो गए हैं ससुरे ! वरना कोई उम्मीद रहती।
तो क्या चील-कव्वों को खिलवा देते!?
मजबूरी का नाम ... यू नो। कहो तो समुद्र में फिंकवा दें ?
समुद्र! .... समुद्र तो खारा होता है। नमक ही नमक।
अच्छा है ना, मछली उपवास पर हुईं तो भी जल्दी गल जाओगे।
मुझे नमक से परहेज की आदत हो गई है। ब्लडप्रेशर .... यूनो।
फिर तो सारी है जी, आप कतार में हैं.... कृपया प्रतीक्षा कीजिए।
इतनी लंबी प्रतीक्षा कैसे संभव होगी ?
ज्यादा दिक्कत नहीं है। यहां दिनभर सारे मुर्दा पड़े सोते रहते हैं और रात भर अंताक्षरी खेलते हैं।
संपर्क- 16 कौशल्यापुरी, चितावद रोड़, इन्दौर- 452001
मो. 09826361533, Blogs- jawaharchoudhary.blogspot.com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष