August 11, 2010

आपके पत्र / मेल बॉक्स

समय रहते मां को मना लेना चाहिए
अनकही में धरती माता क्रोधित है के जरिए आपने सही कहा है कि पर्यावरण के प्रति हम अभी सचेत नहीं हो रहे हैं। यह धरती मां का ही तो क्रोध है कहीं बाढ़ तो कही सूखा पड़ा है। मां कभी अपने बच्चों का बुरा नहीं करती समय रहते हमें अपनी मां को मना लेना चाहिए।
तनाव भरी जिंदगी में हंसी के दो पल कितना सुकून दे जाते हैं ...रामेश्वर जी के सावधान! मैं आत्मकथा लिख रहा हूं गुदगुदाने वाले व्यंग्य के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद और बधाई।

- सुमीता
दुखांत कहानी
परितोष चक्रवर्ती की कहानी चॉकलेट पढ़कर ऐसा लगा जैसे उन्होंने अपनी किसी लम्बी कहानी या उपन्यास के लिए जो नोट्स लिए हैं वही प्रस्तुत कर दिए। हालांकि विषय अछूता है। अगर हम इसे कहानी मान भी लें तो उसका अंत उन्होंने जिस तरह से किया है, वह सारे कथानक और उपजी संवदेना को एक झटके में नष्ट कर देता है। मेरे ख्याल से कहानी की सफलता इसी बात में थी कि वह पाठक के दिमाग में इन बच्चों के जीवन के बारे में सोचने का सबब बने। वे जब भी स्टेशन पर इन बच्चों को देखें उनके बारे में सोचें। लेकिन जो दुखांत है वह कहानी को याद रखने लायक ही नहीं छोड़ती। कायदे से कहानी को ...वे प्लेटफार्म की ओर दौड़ पड़े । शायद राजधानी में कुछ खाने का सामान हाथ लग जाए... पर ही खत्म कर देना चाहिए था।
- राजेश उत्साही, बैंगलोर, utsahi@gmail.com
अच्छी कविताएं
उदंती के जून अंक में पर्यावरण और प्रकृति से सम्बंधित सभी लेख अच्छे हैं। दोनों कविताएं भी बहुत अच्छी लगीं।
-देवमणि पाण्डेय, devmanipandey@gmail.com

सटीक विचार
अनकही में आपने पर्यावरण को विषय के रूप में चुन कर सार्थक और सटीक विचार व्यक्त किया है। आप बधाई की पात्र हैं। मां का गुस्सा तो तभी फूटता है जब उसकी संतानें बड़ी गलती करते हैं।
सुरेश यादव, नई दिल्ली - sureshyadav55@gmail.com
स्मारकों की भव्यता
राजीव धौम्या की सुंदर शैली से ही राजस्थान के स्मारकों की भव्यता का उचित वर्णन किया जा सकता है। राजस्थान की ऐसी खूबसूरत यात्रा पर ले जाने के लिए राजीव को धन्यवाद।
-दीपक, आभा मेनन, नई दिल्ली, deepak.demoninlove@gmail.com

मीडिया का कच्चा- चिट्ठा
जहां खबरें बिकती हैं में संजय द्विवेदी ने मीडिया के वर्तमान स्वरुप का कच्चा- चिट्ठा खोल कर रख दिया है। सब कुछ सामने है फिर भी ऐसा लगता तो नहीं कि मीडिया अपनी नीतियों को बदलेगा। यह सब वास्तव में बहुत ही दुखद है।
-स्नेहा सिंह, इंदौर
विज्ञान कल्पना से ही शुरु होती है
पर्यावरण सुधार पर प्रो. वॉग की यह ललित कल्पना कि ध्रुव प्रदेशों में सीढ़ी बनाकर उधर से पृथ्वी की उत्सर्जित कार्बन डाई आक्साइड अंतरिक्ष में फेंक दी जाए, अभी कल्पना है। विज्ञान की हर नई खोज रचनात्मक, कल्पना से शुरू होती आई है पर अभी व्यावहारिक दृष्टि से देखें तो इसमें एक बड़ी कठिनाई है। वह है सुर्य से निरंतर निकलने वाली प्रचंड वायु जिसे सोलर विंड कहा जाता है। इससे शौर्य वायु के धु्रवों पर टकराने से ध्रुवीय प्रकाश दिखता है। इसका वेग और इसके अवेशित धूल कण चार्ज पार्टिकल्स कार्बन डाई आक्साइड पर क्या प्रतिक्रिया और अभिक्रिया करेंगे। यह प्रयोग से स्थापित करना होगा। बहरहाल इस ललित वैज्ञानिक कल्पना को उदंती ने प्रकाशित किया इसके लिए बधाई। सोलर विंड और पृथ्वी की चुंबकीय क्षेत्र के बीच प्रतिक्रिया का चित्र संलग्न है। जो पाठकों का निश्चय ही ज्ञानवर्धन करेगा।
- बृजेन्द्र श्रीवास्तव, ग्वालियर, brijshrivastava@rediffmail.com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष