July 25, 2017

उदंती.com जुलाई 2017

उदंती.com  जुलाई 2017

पृथ्वी और आकाश, जंगल और मैदान, झीलें और नदियाँ, पहाड़ और समुद्रये सभी बेहतरीन शिक्षक हैं और हमें इतना कुछ सिखाते हैं, जितना हम किताबों सेनहीं सीख सकते। - जॉन लुब्बोक

पावस विशेष

Labels:

4 Comments:

At 25 July , Blogger घुघुती said...

पावस ऋतु पर आधारित रचनाओं के बेहतर संयोजन के लिए उदंती परिवार को बधाई एवं शुभकामनाएं

 
At 27 July , Blogger Vibha Rashmi said...

उदंती का पावस विशेषांक बहुत अनोखा बन पड़ा है । वर्षा की शीतल फुहारों सी मस्त व सरस रचनाओं से सज गया है ये अंक । संपादक द्वय को ढेर बधाइयाँ अनोखे अंक के लिये । मेरी रचना को स्थान देने के लिये आभार ।

 
At 29 July , Blogger रश्मि शर्मा said...

बहुत सुन्दर अंक बना है उदंती का पावस पर। सभी रचनाकारों और संपादकों को बधाई। मेरी रचना को स्थान देने के लिए आभार।

 
At 04 August , Blogger Ashwini Kesharwani said...

बहुत सुंदर संयोजन के लिए बधाई
प्रो अश्विनी केशरवानी

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home