August 18, 2018

जीवन दर्शन

भय को दूर भगाओ
-विजय जोशी
 अंतस् में भय एक जन्मजात एवं स्वाभाविक प्रवृत्ति है लेकिन जीवन में विकास हेतु इसका सीमा में रहना ही सर्वोत्तम प्रयोजन है। पर वास्तविक जीवन में कई बार ऐसा हो नहीं पाता। अच्छी घटना या प्रसंग से हमारा मनोबल उतनी मात्रा में नहीं बढ़ पाता, जितना कि विपरीत परिस्थिति या भय की दशा में गिर जाता है। हम आगत अनिष्ट के डर से कई बार शुतुरमुर्गी अवस्था अपना लेते हैं, जो आँधी आने पर सिर रेत में सिर घुसाकर सोचता है कि कोई संकट सामने नहीं है। यह प्रवृत्ति व्यक्तिगत रूप से बहुत घातक है और जीवन की गति को अवरूद्ध करती है।
एक बार बनारस में स्वामी विवेकानंद एक मंदिर से निकल रहे थे कि वहाँ मौजूद बहुत से बंदरों ने उन्हें घेर लिया और नजदीक आकर डराने लगे। स्वामीजी कुछ सोचकर पीछे हटने लगे, तो बंदर और नज़दीक आकर उनके पीछे ही पड़ गए।
वहाँ से गुजर रहे एक संन्यासी ने यह देखकर स्वामी विवेकानंद से कहा - डरो मत, रुको और उनका सामना करो।
स्वामी जी तुरंत बात का मर्म समझ गए, त्वरित पलटे और बिना एक भी क्षण नष्ट किए उन बंदरों की ओर बढऩे लगे। ऐसा करते ही बंदर भाग खड़े हुए। इसी बात से स्वामीजी को एक सीख मिली, जिसे बाद में उन्होंने अपने संबोधन में भी सदा कहा - पलटो और सामना करो।
बात का सारांश इतना मात्र है कि कई बार भय बहुत छोटा होता है, लेकिन अपने मानस में हम उसे कई गुना बड़ा आकार प्रदान कर देते हैं और यहीं से समस्या की शुरूआत होती है। भयग्रस्त मानस हमारे मनोबल को प्रभावित करते हुए अंतत: हमारी सुचारु रूप से कार्य कर पाने की प्रणाली को शिथिल कर देता है। हमारी उमंग, उत्साह  को हत्सोसाहित करते हुए हमें धीरे धीरे अवसाद की गर्त में डुबोने लगता है। भय से भय की कोई आवश्यकता नहीं । उसे तो फ्रंट फूट पर खेलकर अपने आत्म विश्वास रूपी बल्ले से आसमान में छक्का लगाइए और तब देखिए वह कैसे काफूर हो जाता है। अज्ञात भय की कल्पना कर उसे सीने से लगाकर जीने की अपेक्षा उसे उपक्षित करने की मनोवृत्ति तथा मनोबल उसे धराशायी कर देता है। साहस रूपी संकल्प ही हमें सफलता के प्रशस्ति पथ की ओर ले जाता है.
भय के आगे आग जलाओ,
कद्दावर शब्दों को लाओ
फिर देखो अपनी जमीन का
कितना बड़ा जिगर लगता है
तुमको नाहक डर लगता है
सम्पर्क: 8/सेक्टर-2, शांति निकेतन (चेतक सेतु के पास), भोपाल- 462023, मो. 09826042641,  
E-mail- v.joshi415@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष