February 12, 2020

उदंती.com, फरवरी 2020

उदंती.com
 वर्ष-12, अंक- 7, फरवरी 2020 


विश्वास वह पक्षी है जो प्रभात के पूर्व अंधकार में ही प्रकाश का अनुभव करता है और गाने लगता है।    - रवींद्रनाथ ठाकुर

पक्षी विशेष

4 Comments:

Jyotsana pradeep said...


उदंती का अंक इस बार भी मन को प्रफुल्लित कर गया,विविधता से भरा एक प्यारा अंक !
सम्पादकीय आलेख बहुत बढ़िया लगाlहिन्दी साहित्य के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न साहित्यकार विद्यानिवास मिश्र,प्रेमचंद,भीष्मसाहनी,शंकर पुणतांबेकर को पढ़ना हमेशा ही चिंतन,मनन की ओर ले जाता हैl
सुकेश साहनी द्वारा अनूदित खलील ज़िब्रान की लघुकथा 'भाई भाई'बहुत मज़ेदार लगी l
पक्षियों को देखना जितनी ख़ुशी देता है उतना ही आनंद तब आता है जब उनके बारे में रोचक तथ्य पता चलते हैं lउनके बारे में पढ़ना हमेशा ही अनूठा लगता हैंl पक्षियों से जुड़ें सभी लेख हमारा ज्ञान बढ़ाते हैंlचाहे वो 'आँगन की गौरैया'हो या 'एवरेस्ट की ऊँचाई पर उड़ते हंस','बया का ख़ूबसूरत घोंसला'हो या फिर 'विश्व भ्रमण करते घुमक्कड़ पक्षी', ये सभी आलेख इस अंक को और महत्वपूर्ण बनाते हैं l
रामेश्वर काम्बोज द्वारा रचित- हार नहीं मानती चिड़िया और बीते पल प्रेरक व मनमोहक कविताएँ है l
शबनम शर्मा की 'कबूतर' भी सुन्दर रचना हैl '41 साल 10 सबक'और 'प्यार का कोई प्रतिदान' नहीं से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है l
अंक ज्ञानवर्धक होने के साथ-साथ संग्रहणीय भी हैंl रत्ना जी को बधाई व मंगल कामनाएँ!

ज्योत्स्ना प्रदीप
W/o प्रदीप कुमार शर्मा (CRPF )
मकान नंबर,गली नंबर -9 गुलाब देवी रोड,न्यू गुरुनानक नगर, जालंधर
पंजाब 14403 jyotsanapardeep@gmail.com

Ashutosh said...

आपके प्रयासों की जितनी भी सराहना की जाए,कम है। शुभकामनाएं।

विनोद साव said...

उदंती का नियमित प्रकाशन भी एक घटना है। यह पत्रिका अपने समय की पड़ताल तो करती ही है लेकिन इसके संपादन की विशेषज्ञता उसके प्रकृति प्रेम में झलकती है और यह साफ दिखाई देता है कि यह प्रकृति और पर्यावरण के प्रति सजग पत्रिका है। यह पत्रिका इस मायने में भी उल्लेखनीय है कि साहित्य की एक हाशिए पर पड़ी विधा यात्रावृतांत को केंद्र में लाने का प्रयास करती है। यह क्या प्रयास निरंतर होता है कि पाठकों की रुचि के अनुकूल उदंती का संपादन हो।

सहज साहित्य said...

उदन्ती के सभो अंकों की तरह यह अंक भी सार्थक और सुन्दर है। आपके उत्कृष्ट सम्पादन में उदन्ती निरंतर अग्रसर है।

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष